इटारसी में कोरोना को लेकर प्रशासन सख्त, दुकानें खुली मिलीं तो होंगी सील

तहसीलदार व नगरपालिका सीएमओ दल बल के साथ मौके पर पहुँचे और व्यपारियों से दुकानों पर सामान नहीं बेचने की हिदायत दी।

इटारसी

इटारसी, राहुल अग्रवाल। इटारसी (itarsi) में बढ़ते कोरोना (corona) के मामलों के बाद जिला प्रशासन (district administration) द्वारा जिला आपदा प्रबंधन की बैठक में 14 अप्रैल से 22 अप्रैल सुबह 6 बजे तक जनता कर्फ़्यू (janta curfew) लगाया गया था। जिसमें कुछ जरूरी सुविधाओं के अलावा सभी तरह की आवाजाही और व्यापार (business) प्रतिबंधित किया गया था। इसमें किराना ओर रेस्टोरेंट को होम डिलीवरी (home delivery) की सुविधा दी गई थी। व्यापारी इस सुविधा का  गलत फायदा उठा रहे थे। इसको देखते हुए आज टीआई रामस्नेही चौहान सहित तहसीलदार व नगरपालिका सीएमओ दल बल के साथ मौके पर पहुँचे और व्यपारियों से दुकानों पर सामान नहीं बेचने की हिदायत दी।

यह भी पढ़ें… मतदान के 1 दिन पहले दमोह में मिली नोट भरी कार! कांग्रेसियों ने जताया विरोध, गिरफ्तार

हालांकि इस कार्यवाही से व्यापारी नाराज थे। उनके अनुसार नगरपालिका के आर. आई द्वारा उनकी दुकानों की जबरन रसीद बनाई गई। इसके बाद टीआई चौहान ने दुकानों से व्यापार होने की अवस्था मे दुकानें सील करने की बात कही। इसके बाद प्रशासन और पुलिस पूरे दल बल के साथ जवाहर बाजार होते हुए मुख्य बाजार से सब्जी मंडी पहुंचे जहां फालतू बैठे लोगों को घर जाने की समझाइश दी और फल, सब्जी मंडी में हो रही भीड़ के लिए भी सब्जी व्यापारियों को ग्राहकों से डिस्टेंस रखने की अपील की।

यह भी पढे़ं.. संजय शुक्ला की चेतावनी- 2 दिन में शासन-प्रशासन ने ऐसा नहीं किया तो कर लूंगा आत्‍मदाह

नगरपालिका सीएमओ हेमेश्वरी पटेल ने बताया कि कोरोना के सर्वाधिक मामले इटारसी में ही निकल रहे है। जिसको देखते हुए जनता से जनता कर्फ्यू का पालन करने की अपील करते हुए बहुत जरूरी काम होने पर ही घर से निकलने का निवेदन किया जा रहा है। पर लोग नहीं मान रहे हैं। इसीलिए सख्त रुख अपनाना पड़ रहा है। तहसीलदार पूनम साहू ने लोगों से थोड़े भी लक्षण दिखने पर कोविड टेस्ट कराने का निवेदन किया और कहा कि मरीजों को भर्ती करने की पर्याप्त व्यवस्था है। पवारखेड़ा में भी कोविड केअर सेंटर शुरू हो गया है। अभी वहाँ 12 मरीज भर्ती है। और स्वस्थ्य है।