बोरी अभ्यारण्य के अधीक्षक धीरज सिंह का एमपी टाईगर फाउंडेशन द्वारा किया गया सम्मान

वन्य प्राणी और जैव विविधता को लेकर नर्मदापुरम के हाथ लगी नई सौगात...

नर्मदापुरम,डेस्क रिपोर्ट। वन्य प्राणी और जैव विविधता के मामले में एक नई उपलब्धि नर्मदापुरम (Narmadapuram) के हाथ लगी है। मामले को लेकर शीध्र ही सतपुड़ा टाइगर रिजर्व का आईसीआईसीआई फाउंडेशन से अनुबंध होने वाला है जिसमें बोरी अभ्यारण्य अधीक्षक धीरज चौहान के व्यक्तिगत प्रयासों को स्थानीय विधायक, फील्ड डायरेक्टर सहित अपर प्रधान मुख्य वनसंरक्षक का व्यक्तिगत रुचि लेकर आगे बढ़ मदद की। उसका परिणाम यह रहा है कि सतपुड़ा टाइगर रिजर्व के बोरी अभ्यारण्य के अधीक्षक धीरज सिंह को एमपी टाईगर फाउंडेशन द्वारा भोपाल में वन्य प्राणी सप्ताह के दौरान विभागीय अधिकारी द्वारा सम्मानित करते हुए उन्हें 50 हजार रूपए और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है।

यह भी पढ़े…भिण्ड: जुआ के खिलाफ पुलिस ने उठाया सख्त कदम, 7 लोग गिरफ्तार, लाखों के कैश के साथ स्कॉर्पियो जप्त

बता दें कि बोरी अभ्यारण्य अधीक्षक धीरज चौहान ने क्षेत्र संचालक कृष्णमूर्ति के मार्ग दर्शन में झालाई, मालनी, निशान, खामदा एवं सुपलाई वन ग्रामों का विस्थापन किया। और बोरी अभ्यारण्य को सुन्दर ग्राम क्षेत्र के रूप में विकसित किया है। जिससे टाईगर एवं अन्य वन प्राणियों को स्वतंत्र और निर्भय होकर जीने का अवसर मिला और पर्यटन के नए आयाम विकसित हुए साथ ही मड़ई, चूरना, निमघान भी नए वन्य प्राणी क्षेत्र के रूप में विकसित होकर प्रसिद्धि प्राप्त कर चुके। इसके साथ ही शीघ्र ही बोरी अभ्यारण्य में बारहसिंगा के पुनर्वास पर कार्य कर इस क्षेत्र को पर्यटन की दिशा में और अधिक महत्वपूर्ण बनाया जा रहा जिससे जिले में आने वाले पर्यटकों की संख्या में और अधिक वृद्धि हो सके।

बोरी अभ्यारण्य के अधीक्षक धीरज सिंह का एमपी टाईगर फाउंडेशन द्वारा किया गया सम्मान

यह भी पढ़े…मनासा पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अवैध शराब के अड्डों पर छापा मारकर 7000 लीटर लहान किया जब्त

इन क्षेत्रों को विकसित करने हेतु आईसीआईसीआई फाउंडेशन द्वारा ग्रामों के विकास और वन्य संरक्षण हेतु पहल पर अनुबंध भी किया जा रहा है। वन्य प्राणी क्षेत्र और जैव विविधता के विकास कार्य में धीरज चौहान को व्यक्तिगत रूप से सोहागपुर विधायक ठाकुर विजयपाल सिंह, फील्ड डायरेक्टर कृष्णमूर्ति आईएफएस और अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक का विशेष सहयोग वन्य प्राणी और जैव विविधता में एक अनुपम उदाहरण के रूप में सामने है।