Video : इटारसी की होरियापीपर रेत खदान पर पुराने और नए ठेकेदारों के लोगों में विवाद, गोली भी चली!

झगड़े में कई लोगो को चोट आई है जिन्हें इटारसी के शासकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विवाद के दौरान नये ठेकेदार कर्मचारियों द्वारा जान बचाने के लिए फायरिंग की बात भी सामने आ रही है।

इटारसी, राहुल अग्रवाल| मध्य प्रदेश (MadhyaPradesh) के होशंगाबाद (Hoshangabad) जिले में रेत के विवाद आये दिन सामने आ रहे हैं| कभी प्रशासन और अवैध खनन करने वालों के बीच तो कभी ठेकेदारों के बीच| जबसे रेत खदानों के नए ठेके हुए है तबसे रोजाना यह झगडे आम है| इस बीच मंगलवार को एक बार फिर विवाद हुआ और इसमें फायरिंग भी हुई| मामला इटारसी (Itarsi) की होरियापीपर रेत खदान का है। जहां नये और पुराने रेत ठेकेदारों के बीच मंगलवार दोपहर विवाद हो गया। झगड़े में कई लोगो को चोट आई है जिन्हें इटारसी के शासकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। विवाद के दौरान नये ठेकेदार कर्मचारियों द्वारा जान बचाने के लिए फायरिंग की बात भी सामने आ रही है।

जानकारी के मुताबिक, इटारसी की होरियापीपर रेत खदान पर नये और पुराने रेत ठेकेदारों के बीच में मंगलवार दोपहर करीब 3.30 बजे जमकर विवाद हो गया। इस विवाद में गोली चलने की बात सामने आई है| गोली चलने के बाद ग्रामीण और आक्रोशित हो गए थे और कर्मचारी से पिस्टल छीन ली। हालांकि पुलिस अभी गोली चलने की बात की पुष्टि नहीं कर रही है। घटना की जानकारी लगने के बाद रामपुर गुर्रा थाने का बल मौके पर पहुंचा। विवाद का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है|

रेत खदान के इंचार्ज आरपी सिंह ने बताया कि खदान पर ठाकुर कंस्ट्रक्शन के विक्की, जय अपने साथियों के साथ आए खदान की रोड को तोड़ने लगे। हमारी कंपनी के लोगों ने जब मना किया तो मारपीट करने लगे इसी दौरान गांव के भी लोग भी उनके साथ मिलकर मारने लगे। करीब तीन सौ से चार सौ लोगों ने एक साथ हमला किया था। इंचार्ज सिंह के मुताबिक कई लोगों के पास तलवार, लाठी भी थे। हाल ही में आरकेटीसी कंपनी को रेत खदानों का ठेका मिला है वहीं पुराने ठेका कंपनी ठाकुर कंस्ट्रक्शन के कर्मचारी यहां से रेत उठाना चाहते हैं।

इस मामले में रामपुर थाना प्रभारी अरविंद पराशर का कहना है कि मेडिकल जांच होने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। रामपुर गुर्रा पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। दोनों पक्षों के लोगों के बयान भी दर्ज किए जाएंगे। बड़ा सवाल है कि जिले में रेत का अवैध उत्खनन और रेत को लेकर हो रहे यह झगडे आखिर कब रुकेंगे|