बीएमओ की क्लीनिक पर लोकायुक्त का छापा, रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ाया कर्मचारी

होशंगाबाद। कोरोना संकट (Corona Crisis) के बीच मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के होशंगाबाद (Hoshangabad) में रिश्वतखोरी का मामला सामने आया है| जिले में बीएमओ की क्लिनिक पर लोकायुक्त (Lokayukt) की टीम ने छापेमारी की है। टीम ने बीएमओ के एक कर्मचारी को दस हजार की रिश्वत लेते पकड़ा है| इस कार्रवाई के बाद विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। टीम इस प्रकरण में कार्यवाही कर रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले के बाबई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की बीएमओ डॉ. शोभना चौकसे के क्लीनिक पर आज दोपहर भोपाल से आई 12 सदस्यीय लोकायुक्त टीम ने छापा मारा। एक एएनएम ने आरोप लगाया था कि वेतन निकालने के लिए दस हजार रुपये की रिश्वत मांगी गई लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हो रही थी। पीड़ित ने इसकी शिकायत लोकायुक्त कार्यालय में 3 जून को की थी। शिकायत की तस्दीक के बाद शनिवार को लोकायुक्त की टीम ने जाल बिछाया|

एएनएम रिश्वत की रकम लेकर वहां पहुंची। लोकायुक्त की टीम ने बीएमओ डॉ. चौकसे के कर्मचारी मिलन यादव को दस हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है। डॉ. शोभना और मिलन के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है।