प्रसिद्ध डॉक्टर एनपी मिश्रा का निधन, CM ने दी श्रद्धांजलि, भोपाल गैस त्रासदी पीड़ितों के इलाज में निभाई थी बड़ी भूमिका

डॉक्टर एनपी मिश्रा ने आज (रविवार) सुबह अंतिम सांस ली। डॉक्टर मिश्रा 90 वर्ष की आयु में भी शोध और चिकित्सा क्षेत्र (Research in Medical Science) में आ रही अद्यतन जानकारियों से रूबरू रहते थे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉक्टर नरेंद्र प्रसाद मिश्रा (Doctor NP Mishra) का आज सुबह निधन हो गया। 90 वर्षीय डॉक्टर एनपी मिश्रा राजधानी भोपाल स्थित गांधी मेडिकल कॉलेज (Gandhi Medical College Bhopal) के पूर्व डीन और मेडिसिन के जाने-माने विशेषज्ञ चिकित्सक थे जिनका आज रविवार सुबह सिविल लाइन स्थित उनके निवास पर निधन हो गया। खबर के मुताबिक पिछले दिनों जीभ में कैंसर की वजह से उनकी सर्जरी (Cancer Surgery) की गई थी, जिसके बादस से वो अस्वस्थ चल रहे थे। उनके निधन की सूचना मिलते ही पूरे चिकित्सा क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। वहीं सीएम शिवराज भी उनके निधन की सूचना मिलने से भावुक हुए।

प्रसिद्ध डॉक्टर एनपी मिश्रा का निधन, CM ने दी श्रद्धांजलि, भोपाल गैस त्रासदी पीड़ितों के इलाज में निभाई थी बड़ी भूमिका

ये भी देखें- Petrol-Diesel price today: सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल, जानिए आज के ताजा रेट

डॉक्टर एनपी मिश्रा के निधन की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में डॉक्टरों ने उनके निवास पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी ट्वीट कर डॉक्टर मिश्रा को श्रद्धांजलि अर्पित की। सीएम ने लिखा- “भोपाल के प्रख्यात चिकित्सक श्री एनपी मिश्रा के निधन की दुःखद सूचना मिली है। ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि वे दिवंगत आत्मा को शांति दें और उनके परिजनों को इस कठिन घड़ी में संबल प्रदान करें। । ॐ शांति ।“

ये भी देखें- OBC Reservation : पूर्व उपाध्यक्ष का कांग्रेस पर तंज-जब सत्ता मिली थी तो क्या किया

आपको बता दें, भोपाल में वर्ष 1984 में हुई भीषण गैस त्रासदी (Bhopal Gas Tragedy) के दौरान मरीजों के इलाज में डॉक्टर एनपी मिश्रा ने बड़ी भूमिका निभाई थी। इस भीषण त्रासदी के वजह से बड़ी संख्या में लोग इसकी चपेट में आ गए थे तो वहीं चिकित्सकों को भी यह जानकारी नहीं थी कि घातक मिथाइल आइसासाइनाइड गैस (Methyl Isocyanide Gas) के दुष्‍प्रभाव का इलाज कैसे करना है। तभी ड़ॉक्टर मिश्रा ने अमेरिका और दूसरे देश के डॉक्टरों से बात कर इसका इलाज पूछा था। इस हादसे में कई लोग गैस रिलीज़ से ग्रस्त हुए थे जिनके इलाज के लिये डॉक्टर मिश्रा 2 से 3 दिन तक लगातार बिना सोए मरीजों का इलाज करते रहे।