Indore : होलकर साइंस कॉलेज में मोबाइल यूज करने पर बैन, कॉलेज के नाम पर सोशल मीडिया पर हो रहे भद्दे पोस्ट

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर के भंवरकुआ क्षेत्र में स्थित वर्षों पुराने होलकर साइंस कॉलेज में सोशल मीडिया नेटवर्किंग साइट्स ने बवाल मचा रखा है। इसी का परिणाम है कॉलेज प्रबंधन को अब सख्त निर्णय लेना पड़ रहे हैं।

ये भी देखें- MP Open Board Exams: 10वीं-12वीं की परीक्षाओं का शेड्यूल जारी, जानें कब कौन-सा पेपर

दरअसल, इंस्टाग्राम, फेसबुक सहित अन्य सोशल नेटवर्किंग माध्यमों के जरिये होलकर कालेज ब्रांड का उपयोग कर अश्लील और भद्दी पोस्ट डाली जा रही है। इतना ही उच्च प्रबंधन से लेकर प्रोफेसर्स को लेकर भी उल्टी-सीधी बातें पोस्ट की जा रही हैं। हालांकि, होलकर कालेज प्रबंधन ने ऐसी कोई पोस्ट या उससे जुड़े तथ्य सार्वजनिक नहीं किये हैं लेकिन जो ऐसे कारनामों को अंजाम दे रहे हैं उनपर कार्रवाई के लिए कॉलेज प्रशासन ने साइबर पुलिस को शिकायत की है।

होलकर कॉलेज के प्राचार्य सुरेश सिलावट ने सोशल मीडिया के उपयोग पर प्रतिबंध पर बताया कि इंस्टाग्राम पर होलकर के नाम के तीन बिंदुओं पर गन्दी व अश्लील बातें हो रही है। प्राचार्य का कहना है कि होलकर का नाम लिखकर इस तरह की बाते न करें। खुद अपने व्यक्तिगत नाम से करें तो चलेगा लेकिन होलकर के ब्रांड के नाम पर दुरुपयोग किया जाएगा तो उन पर एफआईआर करवाई जाएगी। वहीं इस मामले की लिखित शिकायत साइबर क्राइम पुलिस को फोटो के साथ की गई है। जो अपराधी स्टूडेंट होगा उसे तत्काल टीसी देकर कॉलेज से निलंबित कर दिया जाएगा। प्राचार्य सिलावट ने बताया कि इंस्टाग्राम पर तीन तरह के होलकर के नाम से इंस्टाग्राम के अकाउंट बनाए गए हैं और उन्हें खोलने का अधिकार नहीं है, क्योंकि ये कॉलेज सरकारी उपक्रम है उसकी छवि कोई धूमिल नहीं कर सकता। उन्होंने माना कि महाविद्यालय की छवि को धूमिल करने की ये साजिश है जिसमें कुछ नए स्टूडेंट्स व पुराने स्टूडेंट्स भी हो सकते हैं।

इन पोस्ट में कॉलेज के अलावा प्रोफेसर्स के लिए भी अश्लील बातें लिखी गई हैं। वहीं कॉलेज में बच्चे होलकर को लेकर मोबाइल उपयोग नहीं कर सकते हैं। खुद के लिए केवल बगीचे में उपयोग कर सकते हैं, कैंटीन शुरू होने पर वहां भी स्टूडेंट्स मोबाइल उपयोग कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि इसंके लिए कॉलेज में नोटिस के आधार पर बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगा दिए गए हैं कि मोबाइल का उपयोग केवल बगीचे और कैंटीन में ही किया जा सकता है। फिलहाल, इंदौर के होलकर कॉलेज का सोशल मीडिया बवाल अब साइबर पुलिस तक जा पहुंचा है और माना जा रहा है जल्द ही इस मामले की परतें खुलकर सामने आ जायेंगी।