Indore : लोकायुक्त पुलिस की बड़ी कार्रवाई, रिश्वत लेते पकड़ाए पुलिसकर्मी, दो सिपाहियों सहित SI सस्पेंड

इंदौर (Indore) में लोकायुक्त पुलिस (Lokayukta Police) को चकमा देकर भागे दो सिपाही और एक एसआई को ससपेंड कर दिया गया है। दो सिपाहियों के नाम निरेंद्र दांगी ओर श्याम जाट बताया गया। वहीं एसआई का नाम राम शाक्य है।

indore

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के इंदौर (Indore) शहर से हाल ही में लोकायुक्त पुलिस (Lokayukta Police) को चकमा देकर भागने वाले सिपाहियों को लेकर खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि इंदौर में लोकायुक्त पुलिस को चकमा देकर भागे दो सिपाही और एक एसआई को सस्पेंड कर दिया गया है। दो सिपाहियों के नाम निरेंद्र दांगी ओर श्याम जाट बताया गया। वहीं एसआई का नाम राम शाक्य है।

इन तीनों ने रिश्वत ली और लोकायुक्त पुलिस को चकमा देकर भाग गए। लेकिन इसकी घटना वहां के सीसीटीवी में कैद हो गई। जिसके बाद इन तीनों को आज लोकायुक्त पुलिस ने सस्पेंड कर दिया है। जानकारी के मुताबिक, इस मामले को लेकर टीआइ अजय वर्मा और एसआइ राम शाक्य के साथ पीएस टैगोर भी फंस गए थे। ये इसलिए क्योंकि इन तीनों ने इन सिपाहियों को रिश्वत लेने के लिए उकसाया था जिसकी वजह से इन पर भी उकसाने का आरोप लगाया गया है।

Must Read : प्रेग्नेंसी की खबरों के बीच Kareena Kapoor का बोल्ड फोटोशूट वायरल, देखें फोटो

इन सभी के खिलाफ इंदौर पुलिस आयुक्त हरिनारायणचारी मिश्र ने जांच के आदेश दे दिए है। बताया जा रहा है कि इन सिपाहियों द्वारा एक आटो डील व्यवसायी कमल टेटवाल की पत्नी टीना से 1 लाख रुपए की रिश्वत की मांग की थी। ऐसे में जब इसकी खबर लोकायुक्त को लगी तो उन्होंने इन सिपाहियों की आवाज की रिकॉर्डिंग की। उसके बाद इन्हे रंगे हाथों पकड़ लिया है। इन सिपाहियों के खिलाफ कल केस भी दर्ज किया गया था।

ये है मामला –

जानकारी के मुताबिक, कमल टेटवाल एमआर-09 निवासी को हेराफेरी का आरोप लगाकर गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद जब टीना उनसे मिलने पहुंची तो इन सिपाहियों ने उनसे रिश्वत मांगी। ऐसे में टीना ने उनसे बहुत रिक्वेस्ट की और हाथ पैर भी जोड़े। लेकिन वो नहीं माने और उन्होंने टीना से 50 हजार रुपए की मांग की।

ऐसे में टीना ने लोकायुक्त पुलिस से इनकी शिकायत की। शिकायत के बाद एसपी सब्यसाची सर्राफ ने इन सिपाहियों की आवाज रिकॉर्ड की। ऐसे में ये पता चला कि इन सिपाहियों ने 15 हजार रुपए मंगलवार वाले दिन और बाकि 15 हजार रुपए बुधवार के दिन लेने की तय की थी।

वहीं बचे हुए 10 हजार रुपए उन्होंने बाद में लेने की सोची। ऐसे में इस मामले को लेकर डीएसपी बघेल की टीम थाने के आसपास खड़ी हो गई। जब टीना थाने पहुंची तो सीसीटीवी कैमरे को देख सिपाहियों ने टीना को इशारा किया और एमआईजी थाने की गली में बुलाया। यहां उन्होंने गाड़ी में पैसे रखवाए और वह से चले गए। इसके बाद लोकायुक्त पुलिस की टीम ने उसका पीछा किया लेकिन वह फरार हो गए। ये पूरी घटना सीसीटीवी में कैद हो गई।