Indore : किसानों को नहीं मिल रहा सोयाबीन का सही दाम, व्यापारियों से हुई बहस, बंद करवाई छावनी मंडी

इंदौर (Indore) में लगातार किसानों को उनकी फसलों के सही दाम नहीं मिलने पर उनके द्वारा विरोध जताया जा रहा है। दरअसल आज इंदौर शहर की छावनी अनाज मंडी में किसानों को उनकी सोयाबीन फसलों के सही दाम नहीं मिलने पर किसान व्यापारियों पर भड़क गए।

indore

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर (Indore) में लगातार किसानों को उनकी फसलों के सही दाम नहीं मिलने पर उनके द्वारा विरोध जताया जा रहा है। दरअसल आज इंदौर शहर की छावनी अनाज मंडी में किसानों को उनकी सोयाबीन फसलों के सही दाम नहीं मिलने पर किसान व्यापारियों पर भड़क गए। जिसका मामला हाल ही में सामने आया है। बताया जा रहा है कि व्यापारियों और किसानों के बीच इस बात को लेकर काफी ज्यादा बहस हुई। जिसके बाद किसानों ने गुस्से में आकर मंडी बंद करवा दी।

यह इसलिए क्योंकि किसानों को सोयाबीन के दाम कम दिए जा रहे हैं। जबकि उन्होंने उनकी फसल को बारिश से काफी बचाया है, काफी परेशानी का सामना कर और नुकसान को झेलते हुए किसानों ने सोयाबीन की फसल को बचाया है। जिसके बाद भी उन्हें उनकी मेहनत का फल नहीं दिया जा रहा है। दरअसल उन्हें सोयाबीन के कम दाम मिलने की वजह से वह काफी ज्यादा भड़क चुके हैं। किसानों का मानना है कि प्रदेश भर में बिना मौसम के बरसात हो रही है।

Must Read : 40 देशों में दिखाया जाएगा “महाकाल लोक” लोकार्पण का लाइव प्रसारण, MP दीपावली से पहले दीपोत्सव

ऐसे में लगातार बरसात की वजह से सोयाबीन की फसलों को काफी ज्यादा नुकसान पहुंचा है। इतना ही नहीं फसलों में बीमारियां भी लग गई है। साथ ही कीड़े लगने की वजह से आधी फसलें खराब हो गई है। लेकिन बची हुई जो फसलें हैं उसका भी उनको उचित दाम नहीं दिया जा रहा है। किसानों का कहना है कि प्रदेश भर में लगातार बारिश का दौर जारी है। ऐसे में एक आम किसान कैसे अपने खर्चे की पूर्ति करेगा।

इतना ही नहीं मौसम विभाग ने भी इस महीने के आखिरी तक बारिश होने की चेतावनी दी है। ऐसे में फसलों को कितना ज्यादा नुकसान पहुंचेगा यह सिर्फ किसान जानते हैं। दरअसल किसानों को उनकी मेहनत का फल नहीं मिलने की वजह से वह काफी ज्यादा निराश नजर आ रहे हैं। वहीं आज इंदौर की छावनी अनाज मंडी में विरोध करते हुए किसानों ने व्यापारियों से काफी ज्यादा बहस की। यह बहस काफी ज्यादा बढ़ने की वजह से छावनी अनाज मंडी को बंद करना पड़ा।