Indore News: महिला की मांग कर किया बच्चे का अपहरण, पुलिस ने 24 घंटे में वारदात को सुलझाया

बच्चे का अपहरण कर महिला (woman) की मांग करने वाले आरोपी को पुलिस ने सर्च ऑपरेशन (search operation) में 24 घंटे में ही गिरफ्तार किया है।

indore, kidnap

इंदौर, आकाश धौलपुरे। इंदौर (indore) में पांच साल के बालक के अपहरण (kidnap) के मामले को पुलिस (police) ने 24 घंटे में सुलझा लिया। बच्चे का अपहरण कर महिला (woman) की मांग करने वाले आरोपी को पुलिस ने सर्च ऑपरेशन (search operation) में 24 घंटे में ही गिरफ्तार किया है। पुलिस की टीम ने खरगोन (khargone) के पास जंगल (forest) से आरोपी को पकड़कर, अपहरण किए गए बालक को सुरक्षित वापस लौटाया। आरोपी (accused)  पहले भी ऐसी वारदात कर चुका है।

गांधी नगर थाने पर 3 अप्रैल को रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी कि कोई अनजान व्यक्ति उसके 5 साल के बच्चे को उठाकर ले गया है। बच्चे के साथ उसका मोबाइल भी गायब है। पुलिस ने तत्परता से कार्यवाही करते हुए विवेचना प्रारंभ कर दी। इसी दौरान थोड़ी देर में पीड़ित के फोन नंबर से किसी अज्ञात व्यक्ति का पड़ोसी के मोबाइल पर फोन आया कि फरियादी का बेटा और मोबाइल मेरे पास है, यदि बेटे को जिंदा चाहते हो तो महिला को मेरे पास लेकर आओ, नहीं तो बच्चे को नहीं छोडूंगा।

इस सूचना पर मामला अत्यधिक संवेदनशील होने से पुलिस उपमहानिरीक्षक (शहर) मनीष कपूरिया व पुलिस अधीक्षक इंदौर (पश्चिम) महेशचंद्र जैन ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (पश्चिम) डॉ प्रशांत चौबे नगर पुलिस अधीक्षक गांधीनगर सौम्या जैन तथा थाना प्रभारी गांधीनगर संतोष सिंह यादव के नेतृत्व में टीम गठित कर विशेष कार्य योजना के तहत कार्यवाही के निर्देश दिए। पुलिस की तकनीकी टीम तथा ऑपरेशन टीम ने एक साथ कार्य प्रारंभ किया। जैसे ही आरोपी की जानकारी प्राप्त हुई उसके स्थान की पहचान कर ऑपरेशन टीम रवाना हुई। आरोपी अपने आपको छुपाने के लिए लगातार प्रयास करता रहा।

यह भी पढ़ें… weather Alert : MP के इन जिलों में 6-7 अप्रैल को चल सकती है लू, यहां बारिश के आसार

पता चला कि आरोपी ने पहले भी गाँधी नगर से 7 साल के बच्चे का अपहरण पिछले साल 3 दिसंबर को किया था। आरोपी के द्वारा बचने के लिए प्रयास किए गए, लेकिन पुलिस टीम की सूझबूझ से आरोपी को बच्चे सहित पकड़ने में सफलता प्राप्त हुई। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर आरोपी को खरगोन के पास जंगल से गिरफ्तार कर मासूम बालक को उसके परिजनों के सुपुर्द किया।