कैलाश विजयवर्गीय

इंदौर| मध्य प्रदेश के कद्दावर नेता और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने गुरुवार को चौंकाने वाली बात साझा की| उन्होंने खुलासा किया कि एक बांग्लादेशी संदिग्ध आतंकी युवक इंदाैर के आजाद नगर क्षेत्र में डेढ़ साल तक रहकर मेरी रैकी कर रहा था। उसकी गिरफ्तारी से यह खुलासा हुआ।

दरअसल, इंदौर में गुरुवार को सेवा सुरभी के कार्यक्रम में विजयवर्गीय ने पश्चिम बंगाल में रहने वाले घुसपैठियों के इंदौर में होने से जुड़ा एक घटनाक्रम सुनाते हुए कहा एक बांग्लादेशी संदिग्ध आतंकी युवक डेढ़ साल तक इंदौर में रहकर मेरी रैकी कर रहा था। उन्हें प्रदान की गई सुरक्षा के संबंध में उन्होंने कहा इसीलिए मुझे सुरक्षा मिली, छह छह बंदूकधारी मेरे आसपास रहते हैं| मेने कभी इंदौर में यह सोचा ही नहीं था देश के बाहर से आकर लोग आतंक फैलाएंगे| नागरिकता कानून पर परिसंवाद में कैलाश बोल रहे थे|

इस दौरान उन्होंने कहा कि कुछ समय पहले जब मैं रात में नंदानगर स्थित घर पहुंचा तो देखा कि बाहर कुछ मजदूर थाली भरकर पोहे खा रहे हैं। जब मैंने ठेकेदार से पूछा कि इन्हें खाना क्यों नहीं दिया? तो उसने बताया कि ये पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं और पोहे ही खाते है। कम मजदूरी लेते हैं इसलिए मैंने उन्हें यहां काम पर लगाया। जब मैंने मजदूरों से बात की तो वे यह तक नहीं बता पाए कि वे पश्चिम बंगाल के किस जिले या गांव में रहते हैं। यानी साफ है कि वोट बैंक की राजनीति की खातिर पश्चिम बंगाल जैसे राज्य में घुसपैठिये बड़ी संख्या में रह रहे हैं और उन्हें कोई रोकने वाला नहीं है।