माफियाओं के खिलाफ जारी रहे ‘ऑल आउट एक्शन’, संभागायुक्त के कड़े निर्देश

इंदौर| माफियाओं के खिलाफ चल रही कार्रवाई इंदौर में जारी रहेगी| संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी ने माफियाओं के विरूद्ध कार्रवाई को और अधिक प्रभावी बनाने के निर्देश दिये हैं| उन्होंने कमिश्नर कार्यालय में आयोजित विशेष बैठक में माफियाओं के विरूद्ध चल रही कार्रवाई की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने दो विभागों को छोड़कर अब तक हुई कार्रवाई को सही दिशा में बताया और इसी लाइन पर आगे बढ़ने के निर्देश दिये। 

बैठक में संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी ने आबकारी और खनिज विभाग में अभी तक कोई ठोस कार्रवाई नहीं होने पर उन्होंने जमकर नाराजगी जतायी। खनिज अधिकारी से उन्होंने दो दिवस में निर्देशों का पालन करने के लिये कहा या निलंबन के लिये तैयार रहने की चेतावनी दी। बैठक में एडीजी मिलिंद कानस्कर, कलेक्टर लोकेश जाटव, एसएसपी श्रीमती रूचिवर्धन मिश्र, आयुक्त नगर निगम  आशीष सिंह सहित सहकारिता, खनिज, आबकारी, परिवहन और अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। 

चार सहकारी संस्थाओं के विरूद्ध एफआईआर दर्ज 

संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने कहा कि माफियाओं के विरूद्ध संगठित प्रशासकीय कार्रवाई के स्पष्ट निर्देश हैं। जिन्होंने कानून और नियम कायदों का मखौल उड़ाया है, उनके खिलाफ ऑल आउट एक्शन करना लाजमी है। ऐसे तत्वों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत भी कार्रवाई सुनिश्चित की जाये। बैठक में सहकारिता विभाग की ओर से बताया गया कि अभी तक चार सहकारी संस्थाओं के विरूद्ध एफआईआर दर्ज करा दी गई है। अन्य 16 की छानबीन तेजी से की जा रही है। संभागायुक्त ने कहा कि जिन माफियाओं ने आम आदमियों के प्लाट हड़पे हैं। उन्हें न केवल प्लाट वापस दिलाये जायें, अपितु उनका कब्जा भी सुनिश्चित कर मकान बनाने तक की प्रक्रिया सुनिश्चित करायी जाये। उन्होंने कहा कि नगर निगम, टीएनसीपी, आईडीए और सहकारिता विभाग मिलकर मकान बनाये जाने तक की पूरी प्रक्रिया की मॉनीटरिंग करें और वास्तविक कब्जाधारी व्यक्तियों की पूरी मदद करें। 

बगीचे और अन्य शासकीय भूमि पर कब्जा करने वालों के विरूद्ध होगी कार्रवाई

बैठक में एडीजी श्री मिलिंद कानस्कर ने कहा कि ऐसे व्यक्तियों और संस्थाओं की जानकारी हमें दें, जिन्होंने बगीचे और अन्य तरह की शासकीय जमीनों पर कब्जा किया है। इन पर नगर निगम के साथ मिलकर संयुक्त कार्रवाई की जायेगी। 

आबकारी अपराध में संलग्न व्यक्तियों पर भी होगी कार्रवाई

बैठक में संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने आबकारी विभाग के उपायुक्त विनोद रघुवंशी और राजनारायण सोनी द्वारा आबकारी से संबंधित कोई बड़ी कार्रवाई अभी तक नहीं किये जाने पर नाराजगी जतायी। उन्होंने निर्देश दिये कि विभाग आबकारी अपराधों में संलग्न अपराधियों को चिन्हित करें और उनके विरूद्ध प्रभावी कार्रवाई सुनिश्चित करें। 

प्राइड होटल प्रकरण में लापरवाह आबकारी अधिकारी पर होगी कार्रवाई

बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्रीमती रूचिवर्धन मिश्र ने कहा कि प्राइड होटल में सुबह साढ़े तीन बजे तक शराबखोरी में पुलिस ने गंभीर एक्शन लिया है। संबंधित थाना क्षेत्र के थाना प्रभारी को निलंबित कर दिया गया है। संभागायुक्त श्री त्रिपाठी ने कहा कि इस प्रकरण में आबकारी विभाग के संबंधित क्षेत्रीय अधिकारी की लापरवाही भी परिलक्षित हो रही है। इस संबंध में जिम्मेदारी तय कर संबंधित के विरूद्ध कार्रवाई सुनिश्चित की जाये। बैठक में तय किया गया कि जो बार देर रात तक शराब परोस रहे हैं, उनका लायसेंस निरस्त करने में जरा भी लेतलाली न की जाये। 

परिवहन के क्षेत्र में एकाधिकार किया जायेगा समाप्त

बैठक में परिवहन विभाग द्वारा भी अभी तक कोई बड़ी कार्रवाई नहीं किये जाने पर संभागायुक्त ने अप्रसन्नता जतायी। तीखे लहजे में संभागायुक्त ने आरटीओ श्री जितेन्द्र सिंह रघुवंशी से पूछा कि यदि कोई आम आदमी बैंक से लोन लेकर वाहन खरीदता है तो उसे आरटीओ के अतिरिक्त और किस बड़े ट्रांसपोर्टर से परमिशन लेनी पड़ती है। संभागायुक्त ने आरटीओ से कहा कि ऐसे व्यक्तियों को चिन्हित करें और कार्रवाई सुनिश्चित करें। उनके पास इस बात की पुख्ता जानकारी है कि हरदा रोड और महू रोड में कुछ ट्रांसपोर्टर ऐसे हैं जो अन्य किसी की गाड़ियां इस रूट पर नहीं चलने देते। 

खनिज विभाग द्वारा भी कार्रवाई में प्रगति नहीं पाये जाने पर संभागायुक्त ने असंतोष जताया। उन्होंने एक दिन का समय जिला खनिज अधिकारी को दिया और कहा कि निर्देशों का पालन नहीं हुआ तो खनिज अधिकारी स्वयं को निलंबित समझें।