लोकायुक्त के हत्थे चढ़ा बीआईएस का अधिकारी, रिश्वत लेने भोपाल से पहुंचा था इंदौर

bis-officer-come-indore-from-bhopal-to-take-bribe-lokayukta-caught-red-handed

भोपाल/इंदौर।

मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में लोकायुक्त पुलिस ने बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है। टीम ने यहां भारतीय मानक ब्यूरो भोपाल में पदस्थ वैज्ञानिक को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथाें गिरफ्तार किया है।आरोप है कि अधिकारी ने मेडिसिन लाइसेंस के आईएसआई मानक देने के एवज एवज में पचास हजार रिश्वत की मांग की थी। लोकायुक्त टीम ने आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम संशोधित 2018 की धारा 7 के अंतर्गत कार्यवाही की है।फिलहाल कार्यवाही जारी है।

        जानकारी के अनुसार, आज शनिवार दोपहर लोकायुक्त इंदौर द्वारा भारतीय मानक ब्यूरो भोपाल स्थित आंचलिक कार्यालय में पदस्थ वैज्ञानिक ब वर्ग अरुण कुमार शंखवार को रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया। वैज्ञानिक ने इंदौर के उद्योगपति सुनील अजमेरा से मेडिसिन लाइसेंस(isi मानक) देने के एवज में ₹50000 की रिश्वत राशि की मांग की थी।इसकी शिकायत सुनील ने इंदौर लोकायुक्त से की थी। टीम ने योजना बनाई और सुनील को पहली किश्त के रूप में ₹10000 लेकर भेजा । जैसे ही आऱोपी अरुण कुमार शंखवार ने रिश्वत के पैसों लेने के हाथ आगे बढ़ाया टीम ने रंगे हाथों धर दबोचा।बताया जा रहा है कि आरोपी अधिकारी रिश्वत लेने के लिए भोपाल से इंदौर आया था। लोकायुक्त टीम ने आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम संशोधित 2018 की धारा 7 के अंतर्गत कार्यवाही की है।फिलहाल कार्यवाही जारी है।

योजना के अनुसार जिस स्थान पर रिश्वत की राशि प्रदान की जानी थी वहां पहले से ही लोकायुक्त की टीम सादे कपड़े में तैनात थी। फरियादी ने जैसे ही 10 हजार रुपए आरोपी को दिए वैसे ही लोकायुक्त पुलिस ने आरोपी को रंगे हाथों धर दबोचा। आरोपी अरुण शंखवार के खिलाफ बाणगंगा थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम संशोधित 2018 की धारा 7 के अंतर्गत कार्यवाही की गई है।

बता दे कि भारतीय मानक ब्यूरो बाजार के विभिन्न उत्पादनों को आई एस आई मानक प्रदान करने वाली संस्था है जो कि भारत सरकार के उपभोक्ता मामलों ,खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय नई दिल्ली के धीन कार्य करती है।