बीजेपी विधायक ने घेरा थाना, महिलाओं से मारपीट मामले में एएसआई निलंबित

इस दौरान लोगों ने जमकर नारेबाजी कर हंगामा मचाया वहीं मामले को लेकर एक एएसआई को निलंबित कर दिया गया है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे।  इंदौर के एमजी रोड थाने में आज उस वक्त हंगामा खड़ा हो गया जब बीजेपी विधायक आकाश विजयवर्गीय (BJP MLA Akash Vijayvargiya) और उनके समर्थक थाने का घेराव (BJP MLA Protest) करने पहुंच गए। जानकारी के मुताबिक थाना क्षेत्र के मेवाती मोहल्ला में मकान के कब्जे के विवाद के मामले में पुलिसकर्मियों ने कुछ महिलाओं के साथ मारपीट की थी। इस बात से आक्रोशित रहवासियों ने विधायक आकाश विजयवर्गीय को भी शिकायत की। जिसके बाद स्थानीय रहवासियों के साथ विधायक आकाश विजयवर्गीय ने गुरुवार दोपहर को एम.जी.रोड़ थाने का घेराव कर दिया। इस दौरान लोगों ने जमकर नारेबाजी कर हंगामा मचाया वहीं मामले को लेकर एक एएसआई को निलंबित कर दिया गया है।

विधायक आकाश विजयवर्गीय ने बताया कि कुछ दिनों पहले एक हिंदू परिवार के साथ लिस्टेड बदमाशों ने मारपीट की थी। वही जिस जमीन को लेकर विवाद था हमने कलेक्ट्रेट से उसकी जांच करवाई। जिस पर कलेक्ट्रेट ने हमें  साफ कहा कि इस जमीन का कोई मालिक नही है यहां पर जो रहता है वो रह सकता है। वहां करीब 9 हिन्दू परिवारों के मकान बन रहे हैं और हम लोगों ने उनके मकान बनवाने में साथ दिया। इसके बाद कोई महिला कोर्ट का आदेश लेकर आ गई। मैंने स्वयं पुलिस प्रशासन से बात की यह आदेश गलत है हमारा जो पक्ष है, उसके पास भी कागज है। पुलिस विवेकपूर्ण ढंग से कार्य करे।

ये भी पढ़ें – Indore News : पत्नि से संबंध बनाने को लेकर हुई कहासुनी में आपसी विवाद बढ़ा, शराब के नशे में धुत्त आरोपी ने फिर किया ये

इसके बाद आज सुबह 22 लोगो की फोर्स पुलिस द्वारा भेजी गई। जबकि सुबह एमजी रोड थाने पर स्वयं विधायक आकाश विजयवर्गीय ने बात की तो पुलिस ने फोर्स भेजने की बात को मना कर दिया। इसके स्थानीय कार्यकर्ताओं  ने वीडियो बनाये और उन्हें बताया कि एमजी रोड पुलिस ही मौके पर है। इसके विधायक स्वयं मौके पर पहुंचे तो पता चला कि वहां लोगो से साथ मारपीट की गई जिसके बाद वो सीधे थाने पहुंचे। विधायक विजयवर्गीय ने बताया कि रघुवंशी करके कोई अधिकारी है उससे लोगो की ज्यादा शिकायत थी। जिसके बाद तत्काल रघुवंशी को सस्पेंड करने की मांग रखी गई और इसके बाद बड़े अधिकारियों ने तत्काल रघुवंशी को सस्पेंड किया। पुलिस चेतावनी भी दी गई है क्षेत्र के लिस्टेड बदमाशों पर तुरंत कार्रवाई की जाए नही तो उग्र विरोध किया जाएगा।

ये भी पढ़ें – ज्ञानवापी केस में वाराणसी कोर्ट ने किए अहम फैसले, पढ़ें यहां

इधर, डीसीपी धर्मेंद्र सिंह भदौरिया ने बताया कि पुलिस मेवाती मोहल्ला में कोर्ट के आदेश पर ज़मीन ख़ाली करवाने के लिए पहुंची थी। कुछ लोगों के द्वारा शिकायत की गई थी पुलिस के द्वारा वहां कुछ महिलाओं के साथ अभद्रता की गई है। ऐसे में अपने स्टॉफ पर नियंत्रण लगाने के सम्बन्ध में एएसआई बीएस रघुवंशी को निलंबित किया गया। विधायक आकाश विजयवर्गीय ने ये भी साफ किया कि पुलिस का ढुलमुल रवैया ठीक नही है और वो इसकी शिकायत ऊपर भी करेंगे। ये अंतिम चेतावनी है अब सहन नहीं करेंगे।

ये भी पढ़ें – रोजगार सहायकों को बड़ी सौगात, मानदेय में 3000 रुपए तक की वृद्धि, CM की घोषणा से मिलेगा लाभ