बिजली कटौती के खिलाफ इस शहर में निकली लालटेन, सड़क पर सजी मोमबत्ती की दुकान

bjp-protest-against-kamalnath-government-on-power-cut-in-indore

इंदौर| बिजली कटौती का मुद्दा सरकार के लिए सिरदर्द बन गया है, वहीं लोकसभा चुनाव में इस मुद्दे पर सरकार की जमकर घेराबंदी करने वाली बीजेपी ने एक बार फिर अपने हमले तेज कर दिए हैं| एक तरफ सरकार बिजली कटौती के मुद्दे पर बैठकें कर रही है| वहीं बीजेपी लालटेन लेकर सड़कों पर उतर आई है|  मंगलवार को इंदौर के क्षेत्र क्रमांक 3 के विधायक आकाश विजयवर्गीय के नेतृत्व में राजवाड़ा पर प्रदेश में हो रही बिजली कटौती को लेकर जमकर प्रदर्शन किया गया|  भाजपा कार्यकर्ता हाथों में लालटेन लिए राजवाड़ा पर बैठ गए और बिजली कटौती के लिए कमलनाथ सरकार को जमकर कोसा और मुख्यमंत्री कमलनाथ का पुतला जलाया गया| इस दौरान आकाश विजयवर्गीय कहा कि यदि कमलनाथ से सरकार नहीं संभल रही है तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। 

इंदौर सहित पूरे प्रदेश में हो रही बेतरतीब बिजली कटौती को मुद्दा बनाते हुए भाजपा द्वारा अपने मातहत संगठनों के माध्यम से आन्दोलन की शुरूआत कर दी है ताकि यह मामला एक बड़े मुद्दे के रूप में तैयार हो सके। इसी कड़ी में अब भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा  द्वारा मुख्यमंत्री कमलनाथ के पुतले कोे करंट लगाया गया। भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चे के अध्यक्ष राजेश शिरोड़कर के समर्थन में भाजपाई राजबाड़ा पहुंचे और मां अहिल्या के क्षेत्र में उन्होंने बिजली कटौती को कोसते हुए कमलनाथ के पुतले को रावण का स्वरूप दिया। 10 मुंह वाले कमलनाथ के पुतले को पहले कटौती के खिलाफ करंट दिया, फिर फांसी दी गई और उसे जला डाला। भाजपाइयों का अनोखा प्रदर्शन देखने के लिए आज जनता भी रुक गई थी। राह चलते लोग कह रहे थे कि शिवराज सरकार में बिजली कटौती नहीं हो रही थीं इंदौर को फिर गांव बनाने की तैयारी की जा रही है।

इस दौरान भाजपाइयों ने मोमबत्ती की दुकान भी सजाई और उसका उद्घाटन भी किया और कहा कि मोमबत्ती ले जाओ अब रात में भी लाइट जाने वाली है। अजा मोर्चे के अनूठे प्रदर्शन में महिला मोर्चे की महिला नेत्रियां युवा मोर्चे के युवा भाजपाई और अजा मोर्चे के नेता कार्यकर्ताओं के अलावा भाजपाई भी बड़ी तादाद में पहुंच गए थे। वही राह चलते लोगों ने भी इस प्रदर्शन को सराहा और प्रदेश की कांग्रेस सरकार को जमकर कोसा। कहा कि अच्छी भली लाइट मिल रही थी। अब उसे खराब किया गया और भाजपा सांसद बड़े मार्जिन से जीते तो बड़ी कटौती भी शुरू कर दी गई।