बीजेपी के सबसे बड़े दलित चेहरे और केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत हाथरस गैंगरेप पीड़िता पर पूछे सवाल से हुए नाराज

मीडिया के सवालो से भागे केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत

इंदौर, आकाश धोलपुरे। ठीक 2 बजकर 50 मिनिट पर केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत का एक ट्वीट सोशल मीडिया पर नजर आता है, जिसमें उन्होंने बकायदा पूरे जोश के साथ, कृषि सुधार और किसान सशक्तिकरण हेतु पीएम मोदी के कुशल नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा लाये गए ऐतिहासिक विधेयकों पर शाम 4 बजे इंदौर में प्रेस वार्ता करने की जानकारी दी और पता दिया भाजपा कार्यालय इंदौर, मध्यप्रदेश।

 

लेकिन जैसे ही प्रेस वार्ता शुरू हुई तो शुरू में उन्होंने व्यापार विधयेक और पास किये कृषि बिलो का जिक्र कर एक उपलब्धि को गिनाया, इतना ही नहीं बिल का विरोध करने वाली कांग्रेस और बीजेपी का साथ छोड़ देने पर अकाली दल पर उन्होंने राजनीतिक हित का हवाला देकर निशाना साधा। अब जब उन्होंने अपनी बात खत्म की तो सबसे पहले सवाल उठा यूपी के हाथरस की निर्भया के साथ दबंगों द्वारा किये गए दुष्कर्म के बाद मौत के मामले में अचानक अंतिम संस्कार कर देना सहित अन्य सवालो की बौछार उठी तो अचनाक बीजेपी के सबसे बड़े दलित चेहरे याने की केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत से दलित बेटी को लेकर किये गए सवाल पर ही तिलमिला उठे और झल्लाकर उन्होंने बीच में ही प्रेस कांफ्रेंस छोड़कर जाने लगे। इसके बाद जो हुआ वो भी मीडिया के कैमरे में कैद होगया।

दरअसल, सामाजिक न्याय की दुहाई देने केंद्रीय मंत्री इसलिये भी तिलमिलाए क्योंकि यूपी में योगी आदित्यनाथ की सरकार और गठित की एसआईटी पर उन्हें पूरा भरोसा है। लेकिन उनके पास इस बात का जबाव नही है कि हाथरस में मीडिया को जाने से क्यों रोका जा रहा है। साथ ही उनके पास दलित बेटी के मामले में अब तक कोई जानकारी ही सामने नही आई है। हालांकि इंदौर में उन्होंने यूपी सरकार और उनके विभाग द्वारा लगाए जा रहे मुआवजे के मरहम को जरूर एक सफलता में मानते हुए खुद पर ही सवाल खड़े कर दिए। क्योंकि अब सवाल ये उठ रहा है दलितों की मुखर आवाज़ होने का दावा करने वाले केंद्रीय मंत्री को ही इस बात की जानकारी नहीं है कि कहा क्या और कैसे कब हो गया। वो तो सिर्फ इतने लंबे राजनीतिक सफर में आज सिर्फ कुर्सी बचाते नजर आए। इसलिए एक दफा कुर्सी से उठने पर उन्होंने कहा कि मैं जिस मुद्दे पर बात करना चाहता हूं मीडिया उस पर तो सवाल ही पूछ रहा है और वे कुर्सी छोड़कर जाने लगे लेकिन अचानक जब मीडिया ने उनसे उनके मुताबिक प्रश्नों के उठाने पर हामी भरी तो प्रेस कांफ्रेंस के बाद वो ये भी कहते नजर आए अब तो ठीक है।

 

इंदौर में आज जो कुछ केंद्रीय मंत्री की प्रेस कांफ्रेंस में हुआ उससे ये तो बहुत हद तक साफ हो गया कि जब राजनीति में कुर्सी बचाने का वक्त आता है तो कुछ देर के लिए ही सही मीडिया के सामने रखी कुर्सी से उठ जाने का भी कोई गम नहीं होता है। अब सवाल उन दलितों का भी है कि आखिर कैसे वो हाथरस की निर्भया के इंसाफ के लिए बीजेपी के सबसे बड़े दलित चेहरे पर विश्वास करे।