इंदौर में कांग्रेसियों का जमकर हंगामा, गिरफ्तार, सिंधिया को काले झंडे दिखाने की थी तैयारी

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट

कोरोना संकटकाल के 5 माह बीत जाने के आम आदमी के हालात खराब हो चले है। ऐसे में बच्चो की स्कूली फीस की माफ करने के साथ ही स्कूल संचालकों की भरपाई की व्यवस्था की मांग को लेकर सोमवार को इंदौर में कांग्रेसियों ने शहर के विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 2 में स्थित लवकुश चौराहे पर हस्ताक्षर अभियान चलाकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस ने स्कूली फीस माफी के साथ ही बस संचालकों को मुआवजे का मुद्दा प्रमुखता से उठाते हुए जमकर नारेबाजी भी की। लेकिन इसी बीच मौके पर पहुंची पुलिस ने जैसे ही कांग्रेस के प्रदर्शन पर सवाल जबाव किये तो कांग्रेसियों की पुलिस से हुज्जत हो गई आखिरकार पुलिस ने बड़ी संख्या में एकत्रित कांग्रेसियों को गिरफ्तार कर लिया, प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसी नेता चिंटू चौकसे को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान पुलिस ने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं पर लाठी भी बरसाई और प्रदर्शन कर रहे चिंटू चौकसे की कॉलर पकड़कर गिरफ्तारी के लिए ले गई।

इधर, कुछ देर बाद मौके पर पहुंचे शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल और विधायक संजय शुक्ला ने पुलिस के रवैये पर सवाल उठायेऔर कांग्रेस विधायक ने कहा कि विरोध करना हमारा अधिकार है ऐसे में पुलिस की कार्रवाई ठीक नही है। बता दे कि आज पूर्व केंद्रीय मंत्री और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया इंदौर उज्जैन दौरे पर है और ऐसी जानकारी आई है कि कांग्रेसी उन्हें काले झंडे दिखाने की तैयारी में थे लेकिन इसके पहले पुलिस ने बिना अनुमति प्रदर्शन कर रहे कांग्रेसियों को अपनी गिरफ्त में ले लिया। इंदौर पुलिस के आला अधिकारियों की माने तो किसी भी धरना, प्रदर्शन और आयोजन की अनुमति प्रशासन से लेना जरूरी है लेकिन ऐसा नही किया गया लिहाजा पुलिस ने बिना अनुमति प्रदर्शन कर रहे लोगो को गिरफ्तार किया है।

इधर, हस्ताक्षर अभियान के जरिये विरोध करने वाले कांग्रेस नेता चिंटू चौकसे ने प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान पर जमकर निशाना साधा और कहा कि 2 माह की उनकी सरकार बची है ऐसे में वो कुछ अच्छा काम कर जाए। स्कूल फीस की माफी और स्कूल संचालकों की भरपाई सरकार करे इस मांग को लेकर हस्ताक्षर अभियान चला रहे कांग्रेस नेता ने केंद्र सरकार द्वारा कोरोना के नाम अरबो रुपये विश्व बैंक से लिये गए कर्ज और पीएम मोदी द्वारा दिये गए लाखो करोड़ रुपये का राहत पैकेज कहा गया इस पर भी सवाल उठाए।विरोध के दौरान कांग्रेसियों ने प्रदेश की बीजेपी सरकार और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी और जमकर हंगामा खड़ा कर दिया।