कांग्रेस

इंदौर, आकाश धोलपुरे। पूर्व मंत्री और कांग्रेस के दिग्गज नेता सज्जन सिंह वर्मा ने इंदौर में सीएम शिवराज सिंह चौहान (cm shivraj singh chauhan) और भाजपा सरकार (bjp government) पर जमकर सवाल उठाए। दरअसल, कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्वकर्ता राहुल गांधी (rahul gandhi) के 51 वें जन्मदिन के मौके पर इंदौर के 85 वार्डो में कांग्रेस (congress) द्वारा पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसी के तहत पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा (former minister sajjan singh yadav) ने भी पौधरोपण किया। इस दौरान मीडिया से बातचीत कर उन्होंने कहा कि हम लोग हमारे नेता राहुल गांधी का जन्मदिन बड़ी सादगी के साथ मना रहे है। उन्होंने कहा कि वृक्षारोपण पर्यावरण बचाने के लिए जरूरी है। इस समय प्रदेश, देश और समूचे विश्व को पर्यावरण बचाने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें… MP News: सीएम शिवराज का जनता के नाम संबोधन, तीसरी लहर को लेकर कही बड़ी बात

इधर, इस बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने कहा इस समय हमें राजनीति की बात नहीं करनी चाहिए चूंकि पर्यावरण का संदर्भ निकला है तो मैं कहूंगा कि छतरपुर के बक्स्वाहा में माननीय सीएम शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर ढाई लाख पेड़ काटे जा रहे है। वर्मा ने कहा कि उस जमीन में 50 हजार करोड़ के हीरे पड़े है इसलिये मैंने उनसे अनुरोध किया कि इस समय कोरोना काल है, ऑक्सीजन की कमी यूं ही है क्यों ऑक्सीजन देने वाले पौधों और वृक्षो को काट रहे हो और 50 हजार करोड़ के हीरे पड़े है तो ये हमारी विरासत है कभी संकटकाल आये तब निकाल लेंगे। वही उन्होंने हरियाणा के  सीएम मनोहरलाल खट्टर पर निशाना साधा और कहा कि वो फरीदाबाद में 10 हजार परिवारों को उजाड़ने का काम कर रहे है। पूर्व मंत्री ने कहा कि बीजेपी को पर्यावरण से कोई मतलब नहीं है वो तो बस अपनी सत्ता कायम रखने के लिए कुछ भी करती है लेकिन हम अपने नेता के जन्मदिन पर पर्यावरण सुरक्षित रखने के लिए एक कदम आगे बढ़ा रहे है।

इधर, कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने निगम चुनाव को लेकर कांग्रेस की तैयारी पर कहा कि इंदौर में सुश्री विजयलक्ष्मी साधौ के नेतृत्व में बूथ कमेटियां, सेक्टर और मंडल इनका गठन अतिशीघ्र कर लें। वहीं उन्होंने कहा कि जब हमारी सरकार सवा साल की थी उस वक्त कांग्रेस ने पार्षदों द्वारा महापौर चुनने का फार्मूला दिया था लेकिन जब छल कपट से हमारी सरकार चली गई तो बीजेपी ने तत्काल निर्णय बदला और डायरेक्ट पद्धति से चुनाव कराने की बात कही और जब देख लिया कि कोरोना के काल में भाजपा की जमीन खिसक गई है, महंगाई की चौतरफा मार है तब उनको निर्णय वापस लेना पड़ा कि पार्षदों से ही महापौर का चुनाव कराएंगे। वर्मा ने कहा कि बीजेपी एक एक मिनट में निर्णय बदलती है।

यह भी पढ़ें… West Bengal दंगों की सुनवाई से इस सुप्रीम कोर्ट जज ने खड़े किए हाथ, कहा- “नॉट बिफोर मी”

वहीं काले धन के मामले में बाबा रामदेव और अन्ना हजारे को घेरते हुए पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि काली दाढ़ी वाला बाबा रामदेव और अन्ना हजारे जो रालेगण की गुफा में घुस गए है ये लोग बड़ा शोर मचाते थे। वहीं महावैक्सीनशन अभियान पर निशाना साधते हुए वर्मा ने कहा कि देवास में एक केंद्र में 70 वैक्सीन ही मिल रही है, वैक्सीन है नहीं। इस मामले में सरकार के पास झूठ के आडंबर के अलावा कुछ नहीं है। वही एक बार फिर उन्होंने ग्वालियर का नाम रानी लक्ष्मीबाई, इंदौर का नाम माँ अहिल्या के नाम पर रखने की भी मांग की है।