“काली” के विवादित पोस्टर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान आया सामने

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विवादित फ़िल्म काली को लेकर कहा बहुत शर्मनाक है

इंदौर, आकाश धौलपुरे। फिल्ममेकर लीना मण‍िमेकलई की डाक्यूमेंट्री ‘काली’ (kali) के पोस्टर के विवाद पर अब बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव ने बड़ा बयान दिया है। विवादित पोस्टर पर प्रतिक्रिया देते हुए कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने कहा की ये ईशनिंदा की श्रेणी वाला अपराध है और हिंदू सहिष्णु है इसलिए वह माफ कर देता है, वही अगर दूसरे धर्म की तर्ज पर सर अलग करने वाला तरीका हिंदुओं ने अपनाया तो क्या होगा इसकी कल्पना करना भी मुश्किल है।

यह भी पढ़े…Video : लड़की मज़े से खा रही थी आइसक्रीम, तेज़ी से आया बाज़ और फिर हुआ ये…

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने विवादित फ़िल्म काली को लेकर कहा बहुत शर्मनाक है और सरकार उनके खिलाफ कार्यवाही करेगी और उन पर एफआईआर भी दर्ज होगी। वही टीएमसी सांसद महुआ के बयान लेकर उन्होंने कहा कि महिला होकर इतना शर्मनाक बयान देना बहुत गलत है। में उनके बयान की में निंदा करता हूं ऐसे बयान से हम लोगों की श्रद्धा, भावना चोट पहुंची है।

यह भी पढ़े…लाखों कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज! 2023 तक मिलेगा ये बड़ा लाभ, 25 लाख तक मिलेगा एडवांस

वही अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर विजयवर्गीय ने कहा कि निश्चित ही कुछ लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग कर रहे हैं लोगों की भावनाओं को आहत पहुंचा रहे हैं। हिन्दू सहिष्ण है इसलिए सहन करता है और माफ भी कर देता है हमारे यहां क्षमा करना परंपरा है यह पर यह अक्षम्य अपराध है जिस पर माफ भी किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अगर गलती से कोई गलती हो जाती है तो उसे माफ भी किया जा सकता है पर जानबूझ कर गलती करना अपराध की श्रेणी में आता है और उसे माफ नहीं किया जा सकता है वही सरकार इसे संज्ञान में ले रही है।

यह भी पढ़े…पंजाब के सीएम भगवंत मान फिर बनने जा रहे दूल्हा, डॉक्टर बनेगी जीवन साथी

वही जब उनसे सवाल किया गया कि दूसरे धर्मों में इसे ईशनिंदा कहा जाता है तो उन्होंने कहा कि यह उसी श्रेणी का अपराध है। हमारा धर्म सहिष्णु है और हम लोगो को स्थान देते है मौका देते है अवसर देते है। हमारे यहां कट्टरवादी तरीका नहीं है यदि अन्य धर्मो के भांति जिनका नारा है गर्दनअलग कर देंगे अगर हिंदू धर्म में आ जाये तो क्या होगा समाज का देश का यह सोचने वाली बात है।