Diwali 2022 : इंदौर की मिठाइयों और नमकीन की विदेशों में डिमांड, इतने करोड़ की होगी बिक्री

दिवाली (Diwali 2022) का त्यौहार आ गया है। कल देशभर में धनतेरस का त्यौहार मनाया जाएगा। ऐसे में इंदौर शहर (Indore) में दिवाली के त्यौहार को लेकर काफी ज्यादा रौनक देखने को मिल रही है।

Diwali 2022

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। दिवाली (Diwali 2022) का त्यौहार आ गया है। कल देशभर में धनतेरस का त्यौहार मनाया जाएगा। ऐसे में इंदौर शहर (Indore) में दिवाली के त्यौहार को लेकर काफी ज्यादा रौनक देखने को मिल रही है। इस बार बाजारों में मिठाइयों और नमकीन की बिक्री भी काफी ज्यादा होने वाली है। इसकी डिमांड विदेशों से आ रही है। क्योंकि इंदौर का नमकीन और मिठाइयां लोगों को काफी ज्यादा पसंद आता हैं। हर कोई त्यौहार से पहले ही मिठाइयां खरीद लेता है। दरअसल, दिवाली के त्यौहार पर सभी का मुंह मीठा करवाने की परंपरा है।

ऐसे में सबसे ज्यादा काजू कतली और सोन पपड़ी की बिक्री सबसे ज्यादा होती है। काजू कतली सबसे ज्यादा पसंदीदा मिठाई में से एक है। इस बार दिवाली पर मिठाइयों की करीब 3 करोड़ से ज्यादा की बिक्री होने वाली है। साथ ही नमकीन की भी डेढ़ करोड़ से ज्यादा की बिक्री होने वाली है। क्योंकि इस बार इंदौर की मिठाई और नमकीन की डिमांड महाराष्ट्र और गुजरात की कंपनियों से लेकर दुबई-सिंगापुर और लंदन तक है। कुछ मिठाइयों की डिलीवरी भी अब तक हो चुकी हैं।

Must Read : होमगार्ड-कर्मचारियों को सीएम का तोहफा, इस भत्ते में वृद्धि, खाते में आएंगे 23010 रुपए, DA का भी लाभ

अनुमान लगाया जा रहा है कि इस बार कम से कम 50 टन मिठाइयों की बिक्री इस दिवाली पर हो सकती है। इसको लेकर मप्र मिठाई नमकीन उत्पादक व्यापारी एसोसिएशन के सचिव और ओम नमकीन के डायरेक्टर अनुराग बोथरा द्वारा बताया गया है कि सबसे ज्यादा लोगों को ड्रायफ्रूट की मिठाइयां पसंद है। ऐसे में सबसे ज्यादा काजू कतली बिकती है। लेकिन पिछले तीन सालों से सोन पपड़ी की बिक्री सबसे ज्यादा हो रही है। दरअसल, सोन पपड़ी देसी घी में बनाई जाती है और ये काफी ज्यादा वक्त तक रखे रखने पर भी ख़राब नहीं होती है। लेकिन इस साल काजू कतली ने सोन पपड़ी को पछाड़ दिया।

मिठाई और नमकीन की कीमत –

दूध-मावे की मिठाइयां 400 से 600 रुपए प्रति किलो के हिसाब से मिल रही है। वहीं सूखे मेवे की मिठाई 700 से 1400 रुपए किलो में बिक रही है। इसके अलावा नमकीन की बात करें तो इस बार नमकीन की बिक्री का आंकड़ा करीब डेढ़ करोड़ पहुंच सकता हैं। इसके अलावा विदेशों से आई मिठाइयों की डिमांड के चलते करीब 1000 रुपए भेजी जा रही है। अब तक लगभग सभी आर्डर डिलीवर हो चुके हैं।