इंदौर: अस्पताल में इलाज के दौरान युवक ने तोड़ा दम, परिजनों ने जमकर की तोड़फोड़, पुलिस ने संभाली स्थिति

मौत के बाद आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल परिसर में डॉक्टरों से हुज्जत(argument) की और विवाद के बाद अस्पताल में तोड़फोड़ (sabotage) कर दी।

इंदौर

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर (indore) के अन्नपूर्णा थाना क्षेत्र में रणजीत हनुमान रोड स्थित एक निजी अस्पताल( private hospital)में रविवार रात 35 वर्षीय युवक की इलाज के दौरान मौत (death) हो गई। मौत के बाद आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल परिसर में डॉक्टरों से हुज्जत(argument) की और विवाद के बाद अस्पताल में तोड़फोड़ (sabotage) कर दी। सूचना मिलते ही अन्नपूर्णा पुलिस (police) का बल और सीएसपी बीपीएस परिहार मौके पर पहुंचे और तोड़फोड़ कर रहे तीन लोगों को हिरासत में लिया।

यह भी पढ़ें… कुछ ही देर में कोरोना समीक्षा की बैठक हेतु जबलपुर पहुंचेंगे सीएम शिवराज, अधिकारियों को दिये ये निर्देश

दरअसल परिजनों ने ऑक्सीजन लेवल ठीक न होने के कारण महूनाका निवासी अमित मोरले को शनिवार दोपहर को उषा नगर रणजीत हनुमान रोड स्थित सेहत अस्पताल में भर्ती कराया था। परिजनों ने आरोप लगाया कि रविवार शाम तक मृतक अमित परिजनों से फोन पर बात कर रहा था। रात लगभग 11 बजे डॉक्टरों ने अमित को मृत घोषित कर दिया। जब परिजनों ने डॉक्टर से मौत का कारण पूछा तो वे भी जवाब नहीं दे पाए। इससे गुस्साए परिजनों ने अस्पताल में डॉक्टरों से झूमा झटकी की और फिर विवाद करते हुए अस्पताल का दरवाजा तोड़ दिया। वहीं परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर की लापरवाही से मरीज की मौत हुई है। डॉक्टरों पर कार्यवाही की जानी चाहिए।

यह भी पढ़ें… शादी के बाद पहले बर्थडे पर संकेत भोंसले को सुगंधा मिश्रा ने यूं किया विश

पुलिस दोनों की शिकायत पर पूरे मामले की जांच कर रही है। परिजन जितेंद्र मोरले ने बताया कि अमित का इलाज डॉ. रोहन अग्रवाल कर रहे थे और हॉस्पिटल इंचार्ज खान नामक शख्स ने उनसे डेढ़ लाख रुपये का इंजेक्शन लाने की मांग की थी। परिजनों का सवाल ये है कि मृतक की कोई भी रिपोर्ट अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें नहीं दी और अंत मे कोरोना से मौत की जानकारी दी इसकी जांच होनी चाहिए। वहीं सीएसपी अन्नपूर्णा बीपीएस परिहार ने बताया कि पुलिस हॉस्पिटल प्रबंधन और मरीजो के आरोप के आधार पर जांच में जुट गई है और जो भी दोषी होगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।