आज से इंदौर की सड़कों पर दौड़ती नजर आएंगी ‘इलेक्ट्रिक बसें’

इंदौर।

इंदौर प्रदेश का पहला शहर बन गया है जहां इलेक्ट्रिक बसे दौडने लगीं है नेशनल थर्मल पॉवर कॉर्पोरेशन (एनटीपीसी) के सहयोग से एआइसीटीएसएल ने ये 40 इलेक्ट्रिक बसें शहर में उतार दी हैं नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह,उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी ने खजराना गणेश मंदिर प्रांगण से हरी झंडी दिखाकर इन बसों को रवाना किया।

इन बसों को पांच रूटों पर चलाया जाएगा,नई इलेक्ट्रिक बसों के लिए सभी रूटों पर चार्जर पाइंट बनाए गए हैं दो घण्टे की चार्जिंग के बाद ये 100 किलोमीटर का सफर तय करेंगी ये बसें रेलवे स्टेशन से एयरपोर्ट, मालवा मिल से चंदन नगर, गंगवाल बस स्टैंड से खजराना गणेश मंदिर, तीन इमली से चाणक्यपुरी, हवा बंगला से बाणेश्वर कुंड रूट पर चलाई जाएंगी। हर बस की कीमत 90 लाख रुपए है अभी प्रयोग के तौर पर शहर में एक ही इलेक्ट्रिक बस तीन इमली चौराहे से चल रही है इंदौर नगर निगम का इस साल शहर में 100 इलेक्ट्रिक बस चलाने का प्लान है और पूरे प्रदेश में 350 इसी तरह की बसें चलाईं जाएंगी क्योंकि ये बस यात्रा के लिहाज से बेहद सुरक्षित है.बस में कैमरे लगे हुए हैं बस में LED भी लगी हुई है ये एअर कंडीशन्ड बसें चलने में बेहद स्मूथ है और यात्रियों के लिए बहुत ज्यादा कंफर्टेबल भी है ये बस वर्तमान में चल रही बसों की तुलना में 10 गुना कम खर्च में दौड़ेगी इसमे 40 यात्री एक बार मे सफर कर सकेंगे