इंदौर में बेटी के पूर्व प्रेमी को पिता और पति ने मरवाया, दी डेढ़ लाख सुपारी

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर में प्रेमी से बात करने से नाराज पिता ने अपनी बेटी के प्रेमी को दामाद के साथ मिलकर मौत के घाट उतरवा दिया, पिता ने इस प्रेमी को खत्म करने के लिए बाकायदा डेढ़ लाख की सुपारी दी, लेकिन जब पुलिस ने मामले की जांच की तो खुलासा हो गया। पिता शादी के बाद भी बेटी के प्रेमी से बात करने से नाराज था, वही उसका दामाद भी इस बात को लेकर ससुर से नाराजगी जता चुका था। जिसके बाद पिता ने यह प्लान बनाया और प्रेमी को चाकुओं से गोद गोद कर मरवा दिया।

यह भी पढ़ें… जेल में सजायाफ्ता कैदी ने किया सुसाईड, परिजनों ने जताई ये आशंका।

पुलिस के अनुसार इंदौर में कुछ दिनों पहले सेज यूनिवर्सिटी के पास खून से सनी एक लाश मिली है। पूछताछ करने पर लाश ग्राम माचल की राजारानी कॉलोनी निवासी अश्विन पुत्र शंकरलाल यादव की निकली। अश्विन राजेन्द्र नगर चोइथराम मंडी के पास से लोडिंग चलाने का काम करता था। इस मामले में अश्विन की पहचान होते ही उसके भाई अशोक ने गंगाराम कटारे पर आरोप लगाए थे। बताया था कि दोनों अश्विन को पूर्व के प्रेम संबंधों के मामले में धमका रहे थे। इसके बाद पुलिस दोनों की तलाश में जुट गई थी। पुलिस ने इस मामले में क्लू मिलते ही गंगाराम कटारे की कॉल डिटेल निकाली थी। कॉल डिटेल्स में पुलिस को कुछ ऐसा मिला जिससे तस्वीर साफ हो गई कि इस हत्या में गंगाराम शामिल है पुलिस ने जब उससे सख्ती से पूछताछ की उसने राज खोल दिया, उसने बताया कि  शादी होने के बाद भी बेटी लगातार अश्विन से संपर्क में थी। जिससे वह काफी परेशान था उसके दामाद ने भी इस बात की शिकायत उससे की थी, चार महीने पहले ही गंगाराम ने बेटी की शादी की थी, उसने बेटी को भी समझाया लेकिन जब बेटी मानी नहीं तो उसने यह कदम उठाया, हालांकि उसने पहले इसके लिए उसने अश्विन को रोका भी था। लेकिन वो नहीं माना, जिसके बाद दामाद के साथ मिलकर गंगाराम ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर पूरे घटनाक्रम को अंजाम दिया। इस हत्याकांड में गोपाल पगारे पुत्र कैलाश पगारे निवासी नगीन नगर, राजू पुत्र धनसिंह कनाश निवासी सात उमरी गंधवानी, अनार सिंह पुत्र रूगनाथ डाबर निवासी ग्राम करोंदिया को सिलिकॉन सिटी इंदौर से गिरफ्तार किया। वही एक आरोपी सुनील मंडलोई निवासी धरमपुरी की गिरफ्तारी अभी बाकी है।