कलश यात्रा मामले में इंदौर बीजेपी जिला अध्यक्ष सहित 4 लोगों पर FIR, सिंधिया समर्थक मंत्री का बेतुका बयान

इंदौर, आकाश धोलपुरे। एक तरफ इंदौर में ताजिया जुलूस पर उठे सवाल तो दूसरी और कांग्रेस द्वारा भीड़ एकत्रित कर पूर्व राष्ट्रपति की श्रद्धांजलि सभा से मचा बवाल। जी हां उपचुनाव के एपिसेंटर बने इंदौर व उसकी सांवेर विधानसभा में इस समय माहौल गरम है। एक तरफ हर रोज कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे है, दूसरी तरफ राजनीतिक रूप से इंदौर में सियासी माहौल गरमाया हुआ है। वही प्रशासन के लिए भी सीएम शिवराज के बयान नियम सबके लिए एक जैसे लागू होने चाहिए वाली बात अब किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

 

इसी का परिणाम है कि सांवेर में इंदौर में ताजिया मामले में 10 से अधिक लोगों पर कार्रवाई की गई तो दूसरी ओर सांवेर में 34 कांग्रेसियों पर FIR दर्ज की गई और उनकी सामूहिक गिरफ्तारी भी ली गई। इधर, अब सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाने वाली धार्मिक यात्रा पर भी सवाल खड़े हो गए थे, जिसके बाद सांवेर पुलिस ने बीजेपी के जिला अध्यक्ष राजेश सोनकर, भगवान सिंह परमार और धरमपुरी क्षेत्र में सुभाष चौधरी और विनोद चंदानी पर धारा 188 के तहत कलश यात्रा को लेकर कायमी की है।

 

बीजेपी जिला अध्यक्ष सहित कुल 4 लोगों पर हुई FIR के बाद ये बात तो सामने आ रही है कि बिना किसी कोविड – 19 के दिशा निर्देशो के नियमों की अवहेलना राजनीतिक दलों से जुड़े नेता ही कर रहे है। वही इधर, सांवेर के पूर्व विधायक और जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट अभी भी पीएम मोदी के दिशा निर्देशों का हवाला दे रहे है और कलश यात्रा को धार्मिक आस्था से जोड़कर ये बता रहे है कि वो तो गांव के गांव में ही निकल रही है। मंत्रीजी की बातों से ये लग रहा है कि यदि आप इंदौर से हटकर किसी ग्रामीण इलाके में समूह बनाकर किसी भी आयोजन में शामिल होते है तो कोरोना का कोई खतरा नहीं फिर भले ही आप जरूरी दिशा निर्देशों का पालन न करे।

कलश यात्रा मामले में इंदौर बीजेपी जिला अध्यक्ष सहित 4 लोगों पर FIR, सिंधिया समर्थक मंत्री का बेतुका बयान

कलश यात्रा मामले में इंदौर बीजेपी जिला अध्यक्ष सहित 4 लोगों पर FIR, सिंधिया समर्थक मंत्री का बेतुका बयान

 

फिलहाल, कोरोना और उपचुनाव की राजनीति के बीच अब सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना और अन्य नियमों का पालन करना महज एक दिखावा ही लग रहा है और इसी का परिणाम है संक्रमण तेजी से फैल रहा है और अब इसकी चैन को रोकने के लिए इंदौर को राजगढ़ की तर्ज पर स्वेच्छा से लॉक डाउन करने की आवश्यकता आन पड़ी है।