इंदौर, आकाश धोलपुरे। उसे उम्मीद थी कि सात जन्मों के बंधन में बंधने वाली उसकी जीवन संगिनी करवा चौथ (karwa chauth) पर सारी नाराजगी भूलकर उसके पास लौट आएगी। लेकिन पत्नी के न लौटने पर पति इतना गमज़दा हुआ कि उसने जहर खाकर अपनी जान (suicide) दे दी।

इंदौर में करवा चौथ पर हुई इस दर्दनाक दास्तां ने लोगों को सदमे में डाल दिया है। जानकारी के मुताबिक रणजीत बड़जात्या (22 वर्ष) की शादी करीब डेढ़ साल पहले हुई थी। कुछ दिन पहले पति-पत्नी के आपसी विवाद के बाद पत्नी के मायकेवाले उसे अपने साथ ले गए थे। रूप नगर छोटा बांगड़दा में रहने वाले रणजीत की पत्नी नवरात्रि के पहले दिन अपने मायके चली गई थी। इतना ही नहीं, उसके सास-ससुर ने रणजीत के खिलाफ एरोड्रम थाने में पत्नी से मारपीट, शराबखोरी और अन्य युवती से अवैध सम्बन्ध की रिपोर्ट भी दर्ज करवाई थी। बावजूद इसके, विछोह से परेशान पति अपनी पत्नी को जिगड़ी गांव से लाने की सारी कोशिशों में लगा था। लेकिन वो नाकाम रहा और अंत में जब करवा चौथ पर भी उसकी पत्नी नहीं लौटी तो उसने जहर खाकर अपनी जान दे दी।

हालांकि मृतक के पास कोई सुसाइड नोट नही मिला है लेकिन मृतक के परिजनों की माने तो वो पत्नी के वियोग में तड़प रहा था। उसने करवा चौथ तक पत्नी का इंतजार किया और सुसाइड कर लिया। इधर, एरोड्रम पुलिस के जांच अधिकारी बीएल मीणा ने बताया कि पूरे मामले की जांच की जा रही है और तफ्तीश के बाद ही पूरे मामले का खुलासा हो पायेगा।