इंदौर : बंटी और बबली की आई शामत, महिला की शिकायत पर लिया गया हिरासत में।

पुलिस ने धोखाधड़ी के मामले में पति - पत्नी को लिया हिरासत में लिया है जिनसे पूछताछ की जारी है।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। भले ही बंटी और बबली पार्ट -2 मूवी का रिलीज हो चुकी है लेकिन असल जिंदगी में आज भी बंटी और बबली की तर्ज पर धोखाधड़ी करने के मामले सामने आ रहे है। दरअसल, इंदौर पुलिस ने धोखाधड़ी के मामले में पति – पत्नी को लिया हिरासत में लिया है जिनसे पूछताछ की जारी है।

यह भी पढ़े… हनीट्रेप अपराध मे तीन आरोपी गिरफ्तार, फरियादी का दोस्त ही निकला साजिशकर्ता

हम आपको बता दें कि इंदौर के एमआईजी थाना क्षेत्र का है जहां पुलिस ने दो ऐसे लोगों को हिरासत में लिया है जो कि ग्लास और विंडो लगाने के नाम पर लोगों से लाखों रुपये की धोखाधड़ी को अंजाम दे रहे है। आरोप है कि पति – पत्नी लोगों से मकान में ग्लास और विंडो लगाने के नाम पर लाखों रुपये ऐंठ लेते है और बदले में मामूली सा काम कर लाखों रुपये की ठगी को अंजाम देते है। लेकर ग्लास भी नही लगाते थे और यदि कस्टमर अपने रुपये की डिमांड करते तो दोनों उन्हें जान से मारने की धमकी देते थे।

यह भी पढ़े… दुष्कर्म के आरोपी की जेल में मौत, परिजनों का आरोप – हत्या करवाई

दरअसल, इंदौर के एमआईजी थाना क्षेत्र के अंबेडकर नगर में रहने वाली नीलम यादव ने शिकायत की है कि उनका नया मकान बन रहा है जिसके लिए उन्होंने विंडो ग्लास व टफन ग्लास लगाने के लिए जेनेलिया विंडो के मालिक मनीष जैन व उसकी पत्नी पूजा जैन को 14 लाख रुपये दिए थे। बावजूद इसके ना तो विंडो ग्लास लगाए गए और ना ही टफन ग्लास लगाए गए। वहीं जब नीलम ने अपना पैसा मांगने के लिए बात की तो उसे जान से मारने की धमकी भी दी गई। इसके बाद फरियादी नीलम यादव ने पूरे मामले की शिकायत एमआईजी थाने में की है। इधर, शिकायत के बाद एमआईजी पुलिस ने मनीष और पूजा को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

यह भी पढ़े…MPPEB : राज्य शासन का बड़ा फैसला, प्रोफेशनल एग्जामिनेशन परीक्षा में ऐसे उम्मीदवारों को मिलेगी राहत

नीलम ने बताया कि मनीष सिंह व पूजा सिंह ने 20 से भी अधिक लोगों के साथ लाखों रुपये की धोखाधड़ी की है और उनसे आधे रुपये ऑनलाइन लेने के साथ ही आधी रकम टुकड़ो में नगद ली है। वहीं जब काम नही हुआ तो उनसे पैसा वापस करने की मांग की गई लेकिन रुपये वापस नही दिए गए। वहीं इस पूरे मामले में जांच अधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि शिकायती आवेदन में मकान के ग्लास, टफन ग्लास और विंडो के नाम पर जेनेलिया विंडो के डायरेक्टर मनीष जैन को करीब 14 लाख रुपये दिए जिसकी जांच चल रही है।