इंदौर : सीएम शिवराज सिंह ने सतना में नवनिर्मित फ्लाई ओवर पुल का किया वर्चुअली लोकार्पण

स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी के नाम पर किया नवनिर्मित पुल का नामकरण

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर से सतना में नवनिर्मित फ्लाईओवर पुल का वर्चुअली लोकार्पण करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सतना विंध्य धरा की पुण्य भूमि का केंद्र है। हम पुरानी नींव पर नवीन निर्माण कर रहे हैं। संस्कार और परम्पराओं को सहेजते हुए यह नवनिर्माण सतना को आधुनिक रूप देगा। शीघ्र ही विकास की एक पूरी योजना लेकर वे सतना आएंगे और इसकी रूपरेखा जनता से साझा करेंगे। विगत वर्षों में सतना को मेडिकल कॉलेज सहित अनेक उपलब्धियां हासिल हुई हैं। यह उपलब्धियां सतना के सांसद, विधायकगणों और अन्य जनप्रतिनिधियों तथा आम जनता की जागरुकता से हासिल हुई है।

यह भी पढ़े… Any Desk डाउनलोड कर धोखाधड़ी करने वाला गिरफ्तार, 100 से ज्यादा लोगों के साथ की ठगी

हम आपको बता दें कि मुख्यमंत्री चौहान ने आज इंदौर से इस नवनिर्मित पुल का लोकार्पण किया। साथ ही उन्होंने कहा कि मेरी इच्छा थी कि में स्वयं सतना आकर इस पुल का लोकार्पण करूँ। लेकिन यह सौभाग्य मुझे वर्चुअली मिला हैं, भारत रत्न स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी के जन्मदिन के कारण आज का दिन लोकार्पण के लिए चुना गया है। मुख्यमंत्री चौहान ने जन प्रतिनिधियों के माँग पर आज लोकार्पित पुल का नाम अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर करने की घोषणा भी की।

यह भी पढ़े… मंत्री के आश्वासन के बाद पूरे प्रदेश मे चल रही जूडा की हड़ताल खत्म

पीडब्ल्यूडी के प्रमुख अभियंता अखिलेश अग्रवाल ने बताया कि इस फ्लाई ओवर पुल की लागत 6388.76 लाख रूपये है। इस फ्लाई ओवर की लम्बाई 1164 मीटर है। इसकी चौड़ाई रीवा से पन्ना तरफ 12.90 मीटर तथा बिड़ला रोड तरफ 8.40 मीटर है। सर्विस मार्ग की लंबाई दोनों तरफ मिलाकर 2690 मीटर है। इस पुल का निर्माण गुडगांव की मेसर्स स्काईलार्क इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के द्वारा किया जा रहा है। सतना शहर में सेमरिया चौराहा अतिव्यस्त चौराहों में से एक है जो पन्ना-छतरपुर-रीवा की ओर आने-जाने वाले एवं सतना शहर से गुजरने वाले आमजन को यातायात में अत्याधिक कठिनाईयों का सामना करना पड़ता था व आये दिन जाम की स्थिति निर्मित होती थी। इस फ्लाई का ओवर निर्माण होने से सतना शहर में सुगम, सुरक्षित एवं निर्बाध यातायात सुनिश्चित होगी।

इंदौर में इस अवसर पर जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, राज्यमंत्री ओ.पी.एस. भदौरिया सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे