इंदौर कलेक्टर आशीष सिंह का सख़्त एक्शन, रिश्वत लेने वाली महिला क्लर्क नौकरी से बर्खास्त

Atul Saxena
Published on -
Indore News

Indore Collector dismissed female clerk from job : इंदौर के कलेक्टर आशीष सिंह ने भ्रष्टाचार के खिलाफ एक बड़ा एक्शन लिया है उन्होंने ऑफिस में खुलेआम बेझिझक रिश्वत लेने वाली महिला क्लर्क रेखा पाटिल को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है, रेखा पाटिल का रिश्वत लेते वीडियो वायरल हुआ है।

भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की नीति के निर्देश दे चुकी मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार इसे लेकर गंभीर है लेकिन सरकारी मुलाजिमों पर इस आदेश का कोई असर नहीं है, रिश्वतखोरी की आदत से मजबूर कर्मचारी अधिकारी सरकारी कार्यालय में ही सेवा शुल्क ले रहे हैं , ऐसी ही एक महिला क्लर्क को नौकरी से निकाल दिया गया है।

ऑफिस में बेहिचक रिश्वत ले रही थी महिला क्लर्क 

दरअसल इंदौर कलेक्ट्रेट की नक़ल शाखा में पदस्थ क्लर्क रेखा पाटिल का रिश्वत लेते एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल  रहा है जिसमें वे एक व्यक्ति से सरकारी कार्यालय में कागज देने के बाद उससे रिश्वत लेते दिखाई दे रही है, वीडियो में क्लर्क रेखा पाटिल खुले आम व्यक्ति से 100, 200 रुपये सुविधा शुल्क की मांग करती सुनाई दे रही है।

आवेदक ने वीडियो बनाई और सोशल मीडिया पर वायरल की 

बताया जा रहा है कि क्लर्क रेखा पाटिल हर नक़ल को देकर आवेदक से सेवा शुल्क लेती थी, शिकायतकर्ता ने भी नक़ल के लिए आवेदन दिया था उसे मालूम था कि उससे भी पैसे मांगे जायेंगे तो उसने बातचीत करने के दौरान मोबाइल से इसकी रिकॉर्डिंग कर ली और फिर इसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया।

कलेक्टर का सख्त एक्शन, महिला क्लर्क नौकरी से बर्खास्त 

मामला कलेक्टर आशीष सिंह के पास भी पहुंचा तो उन्होंने इस पर कड़ा एक्शन लेते हुए महिला क्लर्क रेखा पाटिल की सेवा समाप्त कर दी उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया, गौरतलब है कि अपर कलेक्टर एवं उपाध्यक्ष समाधान समिति कलेक्ट्रेट इंदौर के आदेश से 27 अप्रैल 2013 को श्रीमती रेखा पाटिल (कम्प्यूटर ऑपरेटर) को तहसील जूनी इंदौर में अस्थाई रूप से कार्य करने के लिए आदेशित किया गया था। वे यहाँ आवेदकों से रिश्वत लेती हुई पाई गई है जिसके बाद कलेक्टर ने एक्शन लिया है, कलेक्टर के एक्शन के बाद से इंदौर कलेक्ट्रेट सहित सभी सरकारी कार्यालयों में हडकंप मचा हुआ है।

इंदौर से शकील अंसारी की रिपोर्ट  


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News