इंदौर : धोखेबाज दोस्तो ने की दोस्त के घर लाखों की लूट, पुलिस ने दोस्तो को किया गिरफ्तार, राशि भी की जब्त।

पुलिस की पूछताछ कर ये पता लगाने में जुटी है कि बदमाश इस राशि का उपयोग कहा करने वाले थे।

इंदौर, आकाश धौलपुरे। मध्यप्रदेश के इंदौर एक ऐसा मामला सामने आया है जिसके बाद कुछ लोगो का पक्की दोस्ती पर विश्वास उठ सकता है। दरअसल, यूपी के एक छात्र के इंदौर में दोस्त बने लेकिन जो लोग सालों से दोस्त उनको जब छात्र के पास लाखों रुपये होने की जानकारी लगी तो उन्होंने एक योजना बनाकर अपने ही दोस्त के घर लाखों रुपये की चोरी कर डाली। इधर, पुलिस को जब चोरी का पता चला तो सैंकड़ो कैमरे खंगालने के साथ ही दोस्तों की मोबाइल रिकार्डिंग के आधार पर उन्हें गिरफ्तार कर उनके पास से रूपये और लैपटॉप बरामद कर लिया।

यह भी पढ़े…जबलपुर : प्रधान आरक्षक प्रदीप सिंह का एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने किया सम्मान

दरअसल, उत्तरप्रदेश के खलीलाबाद में रहने वाला शुभम पिता जनार्दन राय पिछले 3 साल से इंदौर के एज्युकेशन हब भँवरकुआं क्षेत्र की अम्बिकापुरी कालोनी में हरिओम कर्मा के मकान में किराये से रह कर एम.बी.ए. और अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं पढाई कर रहा है। वही इन्दौर में मकान खरीदने के लिये फरियादी शुभम अपने घर से करीब 10 लाख रुपये एडवांस देने के लिये लेकर आया था। इस रकम को उसने अपने कमरे में सूटकेस में रख दिया था।

यह भी पढ़े…दिल्ली में महिला से सामुहिक दुष्कर्म के बाद बाल काट, मुंह काला कर, सड़कों पर घुमाया

इधर, शुभम राय ने नए मकान के सपनो और एडवांस राशि का जिक्र उसके दोस्त सौरभ मीणा, वरुण वैद्य और आदित्य से किया। बस इसी के बाद धोखेबाज दोस्तो ने एक योजना बनाई और 24 जनवरी की शाम को योजना के मुताबिक शुभम राय को उसके दोस्त सौरभ मीणा और वरुण वैद्य महू की तरफ ले गए जहां से सभी रात 10 बजे वापस लौटे तो देखा कि घर के कमरे का दरवाजा खुला है और सामान अस्त व्यस्त पड़ा है वही जिस सूटकेस में करीब 10 लाख नगदी रुपये रखे थे वह भी गायब है। इतना ही नही इसके अलावा एक दूसरा बैग जिसमें लैपटॉप व मोबाईल फोन तथा कुछ कागजात रखे थे वह बैग भी मौके से गायब था।

यह भी पढ़े…सांसद केपी यादव के आरोपों का सिंधिया ने दिया जवाब, कह दी बड़ी बात

इंदौर : धोखेबाज दोस्तो ने की दोस्त के घर लाखों की लूट, पुलिस ने दोस्तो को किया गिरफ्तार, राशि भी की जब्त।

इधर, इस बड़े झटके के बाद फरियादी शुभम राय ने थाना भँवरकुआं में रिपोर्ट दर्ज करवाई। घटना की गंभीरता को देखते हुये पुलिस के सीनियर ऑफिसर्स के निर्देश पर भंवरकुंआ पुलिस ने तफ्तीश शुरू की। सहायक पुलिस आयुक्त जूनि इन्दौर दीषेश अग्रवाल और थाना प्रभारी भँवरकुआं संतोष दूधी के नेतृत्व में घटना स्थल से लेकर आसपास के कई किलोमीटर दूर तक के करीब 700 सीसीटीवी कैमरो की फुटेज खंगाला और बदमाशों के रूट को ट्रेक करने पर पता चला कि पिपलियाहाना बायपास से महालक्ष्मी नगर तरफ जाना पाया गया। वही दूसरी ओर पुलिस ने फरियादी के नजदीकी दोस्तो जिन्हे नगद रुपयो के बारे में जानकारी थी उनके मोबाईल सीडीआर का एनालिसेंस किया जिसके बाद घटना स्थल से कडिया जुडने की जानकारी प्राप्त हुई। जिसके बाद पुलिस ने फरियादी के दोस्त बदमाश सौरभ मीणा और वरुण वैद्य को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की जिसके बाद उन्होंने पूरी कहानी उगल दी और बताया दो दोस्त पार्टी के बहाने उसे बाहर ले जाएंगे और बाकी दो दोस्त आदित्य जादौन और दिनेश राजौरिया पहले से बनी चाबी से कमरा खोलकर नगद राशि चुराकर ले जाएंगे।

यह भी पढ़े…इंदौर : सीसीटीवी कैमरा लगाने की बात पर विवाद, पुलिस ने किया प्रकरण दर्ज, महिलाओं पर किया गया पथराव

उप पुलिस आयुक्त महोदय जोन-4 इन्दौर राजेश कुमार सिंह ने बताया कि चारों आरोपियों को हिरासत में लेकर सख्ती से पूछताछ की गई और चुराये गये राशि में से 9 लाख रुपये तथा लैपटॉप व मोबाईल जब्त कर लिया गया है। वही पुलिस की पूछताछ कर ये पता लगाने में जुटी है कि बदमाश इस राशि का उपयोग कहा करने वाले थे।