Indore Gaurav Diwas: नेहरू युवा केंद्र द्वारा “युवा उत्सव” का आयोजन, विजेताओं को किया गया पुरस्कृत

Indore Gourav Diwas: केंदीय खेल मंत्रालय के अधीन संचालित नेहरू युवा केंद्र द्वारा इंदौर में जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन किया गया। इस खेल उत्सव का आयोजन 26 मई से लेकर 30 मई, 2023 तक होगा। इसके अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रम और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इन प्रतियोगिता के विजेताओं को सांसद शंकर लालवानी और युवा आयोग के अध्यक्ष डॉ निशांत खरे ने पुरस्कृत किया।

सांसद लालवानी बोले

इस अवसर पर गत दिवस आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सांसद लालवानी ने कहा कि, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश तेज गति से आगे बढ़ रहा है। उसी गति से युवाओं को भी आगे बढ़कर अपने शक्ति का समुचित उपयोग देश के विकास और उन्नति में करना होगा”

युवा आयोग के अध्यक्ष डॉ निशांत खरे ने कहा

कार्यक्रम संबोधित करते हुए युवा आयोग के अध्यक्ष डॉ निशांत खरे ने युवाओं को शुभकामनाएं दी और कहा कि, “युवाओं में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है, उन्हें सिर्फ अवसर उपलब्ध कराए जाने की आवश्यकता है। युवा उत्सव कार्यक्रम युवाओं की प्रतिभा को निखारने के लिए बेहतर माध्यम है।”

इन लोगों ने मारी बाजी

वहीं नेहरू युवा केंद्र की उपनिदेशक तारा पारगी के मुताबिक इस उत्सव के अंतर्गत युवाओं के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया था। भाषण प्रतियोगिता में प्रथम विनय यादव, द्वितीय विजेता वर्मा एवं तृतीय आलोक रहें। इसी प्रकार युवा कवि प्रतियोगिता में प्रथम अक्षत पुराणिक, द्वितीय सृष्टि देशमुख एवं तृतीय खुशबु सिन्हा रही। चित्रकला में प्रथम जया सुर्यवंशी, द्वितीय कनक पांचाल एवं तृतीय अपुर्वा साहु, मोबाईल फोटोग्राफी में प्रथम पीयुष गौर, द्वितीय रीतिक जैन एवं तृतीय निलेश सेनडकी रहें। इसी प्रकार सांस्कृतिक कार्यक्रम में 10 टीमों ने भाग लिया। जिसमें प्रथम आईटी महाविद्यालय, ग्रुप द्वितीय एनिबिसेन्ट ग्रुप और तृतीय शासकीय नवीन विधि महाविधालय कॉलेज रहें।

इंदौर से मंगल राजपूत की रिपोर्ट


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News