इंदौर, आकाश धोलपुरे। अवैध रूप से पिस्टल, देशी कट्टे और कारतूस बनाने वाले एक सिकलीगर अन्तर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफाश इंदौर क्राइम ब्रांच ने किया है। इंदौर डीआईजी मनीष कपूरिया ने इस पूरे मामले को मीडिया के सामने कई चौंकाने वाले खुलासे किये। पुलिस ने आरोपियों के पास से हथियार भी बरामद किए हैं।

बता दें कि क्राइम ब्रांच इंदौर की टीम ने फायर आर्म्स का जखीरा पकड़ा है जिसमें 29 पिस्टल व 22 देशी कट्टे सहित 14 जिंदा कारतूस थे, जिसे क्राइम ब्रांच ने बरामद कर लिया है। पुलिस ने अन्तर्राज्यीय गिरोह के पांच आरोपियों को गिफ्तार किया है जिनमें औरंगाबाद, बिहार, बड़वानी, धार व इंदौर सहित सिकलीगर शामिल है। गिरोह में शामिल आरोपी ताला चाबी बनाने का काम करते थे। उन पर कोई शक न हो इसलिए वो इसकी आड़ में फायर आर्म्स बनाने का काम करते थे। पकड़े गए आरोपियो ने इंदौर सहित अन्य प्रदेशों में सैंकड़ो हथियार बेचना कबूल किया है।

जानकारी के मुताबिक इंदौर क्राइम ब्रांच को मुखबिर से सूचना मिली थी की फायर आर्म्स का एक बड़ा जखीरा बेचने के लिए सिकलीगर व अन्य खरीदने वाले एक जगह इकठ्ठा हो रहे है। जिसके बाद हरकत में आई क्राइम ब्रांच ने तुरंत एक टीम गठित कर पांच आरोपियों को घेरा बंदी कर पकड़ने में सफलता हासिल की है। पकड़े गए आरोपियो के नाम प्रकाश सिंह , गोविंद उर्फ लाल भाट, पीयूष सिंह, रवि सोलंकी व राजेन्द्र भाटिया है जो अब पुलिस की गिरफ्त में है। अब पुलिस पकड़े गए पांचों आरोपियो को कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ करेगी।  फिलहाल, इस मामले के खुलासे के बाद ये बात भी सामने आ रही है गिरोह में शामिल अन्य लोगो पर भी जल्द ही शिकंजा कसा जा सकता है और हथियारों के काले कारोबार को लेरप और बड़ी कामयाबी मिल सकती है।