इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मिनी मुंबई कहे जाने वाले इंदौर (Indore) में कोरोना को काबू करने के लिए शुक्रवार से सख्ती बढ़ा दी गई है।वही इंदौर (12%) में 10% से अधिक साप्ताहिक पॉजिटिविटी दर होने के चलते कोरोना नियंत्रण के लिये 3 स्तर पर काम शुरु किया गया है और 18 नए माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए है। इंदौर कलेक्टर ने साफ कहा है कि पॉजिटिव दर कम हो रही है। 1 जून से गतिविधियों को खोला जाना है, ऐसे में यह कदम संक्रमण को कम करने में अहम होगा।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के 22 जिलों में बारिश के आसार, जून के दूसरे हफ्ते में होगी मानसून की एंट्री!

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह (Indore Collector Manish Singh) ने बताया है कि इंदौर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के नियंत्रण के लिए तीन स्तरों पर कार्य किया जा रहा है। जिले के 600 से अधिक गांवों को संक्रमण की स्थिति के आधार पर रेड, यलो और ग्रीन झोन में बांटा गया है। जिन गांवों में तीन या तीन से अधिक संक्रमित मरीज है उन्हें रेड झोन में रखा गया है। रेड झोन में 93 गांव चिन्हित किये गये है। रेड झोन के इन गांवों में जनता कर्फ्यू का सख्ती से पालन कराया जायेगा। जिले में जहां तीन या तीन से कम मरीज है। वह यलो झोन रहेंगे। जहां एक भी मरीज नहीं है ऐसे गांव ग्रीन झोन के रहेंगे।

यह भी पढ़े.. खुशखबरी: केन्द्र का मध्य प्रदेश को बड़ा तोहफा, करोड़ों की इस कार्य-योजना को दी मंजूरी

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिले के नोडल अधिकारी होंगे। सभी अपर कलेक्टर्स भी लगातार मॉनिटरिंग कर व्यवस्थाएं सुनिश्चित करायेंगे। इंदौर को कोरोना से मुक्त करने के लिये हर संभव प्रयास किये जा रहे है। इसी संदर्भ में अब कोरोना नियंत्रण के लिये ज्यादा संक्रमित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन बनाया जायेगा। साथ ही यहां पर कोरोना नियंत्रण के लिये विशेष प्रयास किये जायेंगे। घर-घर जाकर सर्वे का कार्य होगा। निगरानी के लिये दल बनाये जायेंगे।

31 मई तक पॉजिटिविटी दर को न्यूनतम लाना

इंदौर कलेक्टर (Indore Collector) ने साफ कहा है कि सभी के प्रयासों से 31 मई तक पॉजिटिविटी दर को न्यूनतम स्तर पर लाना है। इसके लिये शहर के अधिक संक्रमित क्षेत्रों को कंटेनमेंट जोन बनाया जा रहा है। इन क्षेत्रों में कोरोना नियंत्रण, उपचार एवं एहतियात के रूप में सभी बिन्दुओं पर विशेष कार्य किये जायेंगे। घर-घर जाकर संक्रमित तथा संदिग्ध मरीजों का सर्वे होगा। इसके लिये आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ता की टीम बनाई गई है। इन क्षेत्रों में निगरानी के लिये नगर निगम, स्वास्थ्य, प्रशासन और पुलिस अधिकारियों की टीम बनाई गई है।

यह है 18 नए माइक्रो कंटेनमेंट जोन

18 नए माइक्रो कंटेनमेंट जोन में सिलिकान सिटी, सीताराम पार्क कालोनी, महावर नगर बगीची पीओपी वाली गली से आगे वाली गली तक, रालामंडल, हरिराव होलकर छत्री के सामने गणगौर घाट, कालिंदी गोल्ड, संचार नगर, दुर्गा नगर, संविदनगर सब्जी मंडी, रंगवासा, कृष्णा पैराडाइज फेस -1, समाजवादी नगर गली नंबर 7, पालदा, सांई विहार, ट्रेजर फैंटेसी, ग्राम माचला और रमापति विहार शामिल हैं।