Indore News: अनाथ आश्रम में 4 बच्चों की मौत, CM मोहन यादव ने जताया शोक, SDM को पद से हटाया गया, जांच के आदेश जारी 

इंदौर अनाथ आश्रम में बच्चों की मौत के मामले में सीएम मोहन यादव ने एक्शन लिया है। जांच के आदेश जारी किए गए हैं।

CM MOHAN

Indore News: इंदौर के मल्हारगंज में स्थित श्री योगपुरुष धाम आश्रम में 4 बच्चों के मौत का मामला सामने आया है। वहीं 10 बच्चों की हालत अभी भी गंभीर है, जिला अस्पताल में जांच जारी है। मासूमों के असामयिक निधन की खबर मुख्यमंत्री मोहन यादव ने शोक जताया है। साथ ही जांच के आदेश जारी किए हैं। जिसके लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन भी किया गया है। मल्हारगंज SDM को भी पद से हटा दिया गया है।

सीएम ने क्या कहा?

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मुख्यमंत्री ने कहा, “इंदौर के अनाथ आश्रम में 4 मासूम बच्चों के असामयिक निधन का समाचार हृदय विदारक है। मैं बाबा महाकाल से दिवगंत बच्चों की आत्मा को शांति प्रदान करने और गंभीर रूप से बीमार सभी बच्चों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूँ।” उन्होनें आगे कहा, “इस दुखद घटना की जांच के लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया है। मल्हारगंज SDM को असंदेवशील व्यवहार के लिए पद से हटा दिया गया है।

mp news

क्या है मामला?

मंगलवार की सुबह बच्चों की तबीयत अचानक बिगड़ने लगी। दो दिन 12 बच्चों के बीमार होने की बात कही जा रही है। कलेक्टर आशीष सिंह ने खुद अस्पताल का दौरा किया और बच्चों की स्थिति ब्योरा लिया। आश्रम द्वारा बाल कल्याण समिति को भेजे गए पत्र में खून में संक्रमण होने की आशंका जताई गई है। डॉक्टरों की टीम जांच में जुटी है।

एसडीएम का असंदेवंशील व्यवहार

जांच के लिए डॉक्टरों की टीम के साथ एसडीएम ओमप्रकार बड़कुल खुद पहुंचे। लेकिन मामले की गंभीरता समझने की बजाए उन्हें हंसी-मजाक करते हुए देखा गया। उनके असंवेदनशील व्यवहार को लेकर वीडियो भी सामने आया है। जिसमें उन्हें आश्रम संचालन अनीता शर्मा और अन्य अधिकारी के साथ हँसते हुए देखा गया।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News