Indore News: नकली आईपीएस अधिकारी के मददगार गिरफ्तार

इंदौर की विजय नगर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी। नकली आईपीएस अधिकारियों के कार्ड के जरिए युवतियों को ठगने वाले पुलिस हिरासत में।

इन्दौर, आकाश धोलपुरे। (Indore News) नकली आईपीएस अधिकारी का फर्जी आईडी कार्ड तैयार कर प्रिंट निकालने वाले दो आरोपियो को इन्दौर के विजयनगर पुलिस ने धर दबोचा है । पुलिस ने  अखिल और गोपाल नामक दो युवकों को हिरासत में लिया है। इस मामले में विजय नगर थाना पुलिस ने सिमरोल निवासी 27 वर्षीय राजवीर सिंह उर्फ रवि पिता देवकरण सोलंकी को बीते दिनों गिरफ्तार किया था। आरोप है कि यह नक़ली अधिकारी बन युवतियों से शादी के नाम पर ठगी करता था। अब पुलिस ने उसके दो और सत्यों को जो उसके लिए नकली आईकार्ड बनाते थे को भी हिरासत में ले लिया है।

यह भी देखें- News : दिसंबर में औसतन 5 मरीज प्रतिदिन, कोरोना को लेकर बढ़ाई सतर्कता

गिरफ्तार आरोपियों ने नकली आईडी कार्ड बना कर युवतियों को ठगने वाले अपराधी की मदद की थी। पुलिस के अनुसार 37 वर्षीय अखिल भाटिया निवासी अमितेश नगर उसे यह कार्ड बनाकर दिया करता था, जिसकी भंवरकुआ इलाके में स्क्रीन प्रिंटिंग हुई। आईडी कार्ड का प्रिंट आउट सुविधी नगर निवासी 50 वर्षीय गोपाल सिंह राणा ने तैयार किया जो अब पुलिस की कैद में है।

यह भी देखें- Crime: घूरने पर बदमाशों ने कर दी पेट्रोल-पंप पर फायरिंग, केस दर्ज

मामला संज्ञान में आते ही विजय नगर पुलिस ने सारे सबूत जुटाते हुए आरोपियों की धरपकड़ शुरू कर दी और जल्द ही पुलिस के हाथ आरोपियों के गिरेबान तक पहुंच गए। फिलहाल नकली आईडी बनाकर बड़े अधिकारियों के नाम के दम पर युवतियों को ठगने वाले इस गैंग के सदस्य अब पुलिस की हिरासत में हैं।

यह भी देखें- : बेटी का ससुराल ना लौटना पिता को पड़ा महंगा, दामाद ने उठाया खौफनाक कदम, जाने मामला

गौरतलब है कि पिछले दिनों विजय नगर पुलिस नकली आईडी कार्ड बनाकर युवतियों के साथ ठगी करने वाले युवक को गिरफ्तार किया था।  धरपकड़ और खबरीयो से मिली सूचना के आधार पर पुलिस को इस गैंग को पकड़ने में कामयाबी मिली है। आरोपियों से लगातार पूछताछ जारी है और पुलिस को उम्मीद है कि जल्द ही इस गैंग के और भी मेंबर हिरासत में होंगे। विजय नगर थाना प्रभारी तहजीब काजी ने बताया कि दोनों आरोपी कार्ड बनाकर प्रिंट निकालकर देते थे। दोनों को विजय नगर पुलिस ने गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।