Indore News : पंचायत कर्मचारियों ने सीएम और सरकार के खिलाफ फोड़ी मटकियां

मध्यप्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा द्वारा 22 जुलाई से की जा रही हड़ताल ने शिवराज सरकार (Shivraj Sarkar) पर जमकर हमला बोला है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) में सोमवार को सरकारी सेवा में पदस्थ कर्मचारियों ने प्रदेश सरकार और सीएम शिवराज के खिलाफ मटकी फोड़ प्रदर्शन कर विरोध जताया। मध्यप्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा द्वारा 22 जुलाई से की जा रही हड़ताल ने शिवराज सरकार (Shivraj Sarkar) पर जमकर हमला बोला है।

यह भी पढ़ें…भारतीय हॉकी टीम के सदस्य विवेक सागर को शिवराज ने किया फोन, कही ये बड़ी बात

दरअसल, इंदौर से सोमवार को जो तस्वीरे सामने आई है वो प्रदेश सरकार पर सवाल उठाने के लिए काफी है। दरअसल, यहां पर प्रदेश की शिवराज सरकार के खिलाफ मध्यप्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा की महिला कर्मचारियों द्वारा सरकार को तिलांजलि देते हुए मटकी फोड़ प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया गया। विरोध प्रदर्शन जे दौरान महिला कर्मियों ने न सिर्फ मटकी को लेकर सड़क पर पैदल मार्च किया बल्कि उन्होंने आक्रोश जताते हुए मटकी फोड़कर उसे पैरों से कुचल दिया।

यह भी पढ़ें… सीहोर जिला अस्पताल में महिला ने एक साथ दिया तीन बच्चों को जन्म, सभी स्वस्थ

बता दें कि समूचे प्रदेश में मध्यप्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा द्वारा 52 हजार गांव, 313 जनपद और ग्रामीण विकास विभाग के 18 घटक संगठनो द्वारा अपनी मांगों को लेकर विरोध जताया जा रहा है। अनार्थिक मांगो को लेकर संयुक्त मोर्चा द्वारा 22 जुलाई से विरोध किया जा रहा है। इसी तारतम्य में सोमवार को संयुक्त मोर्चा में शामिल अलग – अलग संगठनो ने प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और जिला पंचायत कार्यालय तक सड़क पर मार्च कर पेंशन और स्थायित्व को लेकर हल्ला बोला। विरोध प्रदर्शन के दौरान मोर्चा अध्यक्ष देवेन्द्र कुमार अग्रवाल ने बताया कि 22 जुलाई से शुरू हुई कमलबंद हड़ताल के बावजूद सोई सरकार नींद से नही जाग रही है लिहाजा, शोकाकुल कर्मचारियों ने सरकार का संस्कार कर मटकी फोड़ विरोध जताया है। वहीं महिला कर्मचारी धर्मगिरी ने बताया कि कई सालो से काम कर रहे कर्मचारियों को स्थायी नही किया जा रहा है। और हम सरकारी खजाने पर वार न कर अनार्थिक मांगो को लेकर विरोध कर रहे है और भांजियों के मामा कुछ भी नही कर पा रहे है लिहाजा, सरकार की मटकी फोड़ना कर्मचारियों की मजबूरी हो गई है।

फिलहाल, सरकार का ध्यान इन कमर्चारियों पर है या नही इस पर अभी भी सवाल है। लेकिन हड़ताली कर्मचारियों के प्रदर्शन और विरोध के चलते आम लोगो की मुश्किलें बढ़ रही है। जिस ओर सरकार का ध्यान नही जा रहा है लिहाजा, आने वाले दिनों में आम लोग भी सरकार का विरोध करते नजर आये तो ये कोई चमत्कार नही कहा जा सकता है।