इंदौर पुलिस ने पकड़ा एलोपैथी दवाइयों से नशे बनाने वाला गिरोह, डेढ़ करोड़ का नशीला पाउडर जब्त

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। इंदौर में पुलिस ने एक बड़ी सफलता हासिल की है जिसमें करीबन डेढ़ करोड़ का नशीला पाउडर पुलिस ने पकड़ है, यह इंदौर के युवाओं में खपाया जाने वाला था, खास बात यह है कि पूरे आपरेशन में पुलिस ने नशेड़ियों से लिंक जोड़ते हुए इस मामलें का खुलासा किया है, इस गोरखधंधे में शामिल 5 लोगों को गिरफ्तार भी किया है। जो आरोपी पुलिस के हत्थे चढ़े है वह यह पाउडर तैयार करते थे फिर उसे बाजार में खपाते थे, पुलिस ने करीब 151 किलो पावडर और 4 लाख रुपए कैश बरामद किए हैं। पुलिस ने जांच के लिए पावडर के सैंपल लैब में भेजे हैं। हैरान करने वाली बात यह है कि नशे के इस कारोबार में भी मिलावट की जताई थी। वही इस धंधे में लिप्त आरोपियों ने माल बनाने के लिए बाकायदा आफिस भी ले रखा था। आरोपियों के ऑफिस से पुलिस ने करीब 151 किलो नशीला पावडर और 4 लाख रुपए नकद बरामद किए हैं। साथ ही नोट गिनने की मशीन, एक मिक्सर, बड़े टब, प्लास्टिक ड्रम, मास्क और इलेक्ट्रॉनिक वेट मशीन भी जब्त की है।

यह भी पढ़ें… MP News: खुशखबरी! जल्द ही प्रदेश के सड़कों पर चलेंगी पर्यटक टैक्सी, ऐसे कर पाएंगे बुकिंग  

पुलिस को लगातार सूचना मिल रही थी कि शहर के कुछ हिस्सों में नशीला पाउडर बिकता है, जिसे लेने के बाद कई बदमाश घटनाओं को अंजाम देते है, पिछले दिनों कई घटनाओं में पकड़े गए आरोपियों की जांच में भी यह बात सामने आई कि उन्होंने नशीला पाउडर खाकर वारदात को अंजाम दिया, जिसके बाद जांच में यह बात सामने आई कि यह पाउडर बेहद कम दाम में शहर के अलग अलग इलाकों में मिलता है, पुलिस के लिए यह जानकारी काफी अहम थी जिसके बाद जिसके बाद पुलिस ने टीम बनाई और नशेड़ियों की धरपकड़ की और उनसे पूछताछ की, नशेड़ियों से मिली जानकारी के बाद पुलिस इस धंधे में लिप्त आरोपियों तक पहुंची, पुलिस ने रणनीति बनाकर जब पाँच आरोपियों को दबोचा तो इनसे पूछताछ की तो जो जानकारी सामने आई उसे सुनकर पुलिस भी हैरान रह गई।

यह भी पढ़ें… MP की इन सड़कों पर टोल टैक्स लगाने की तैयारी, ये रहेंगी दर, इन्हें मिलेगी छूट

पकड़ाए आरोपियों के नाम आरिफ पिता मोहम्मद हुसैन निवासी भवानी नगर, कार्तिक पिता पुष्पराज बघेल निवासी मुखर्जी नगर, अजय पिता सूरज सिंह जादोन निवासी 32 नार्थ गाडराखेडी मरीमाता, कोमल पिता भरोसे सिंह सहरिया निवासी नरवर सांवेर रोड और दिनेश निवासी भवानी नगर सांवेर रोड को पकड़ा है। पुलिस के मुताबिक नशीले पावडर के लिए कच्चा माल दिल्ली के रास्ते मुजफ्फरनगर से आता था। जिसके बाद यहां पेरासिटामोल दवा सहित कई तरह का केमिकल डालकर इसे नशे के लिए तैयार किया जाता था। इससे पावडर की कीमत 10 गुना तक कम हो जाती है। इंदौर लाने के बाद कच्चे माल में एलोपैथी दवाई मिलाकर उसे दुगुना किया जाता था।

यह भी पढ़ें… MP Board: छात्रों के लिए काम की खबर, 10वीं-12वीं के रिजल्ट पर आई बड़ी अपडेट

आरोपियों ने RNT मार्ग पर चेतक सेंटर में तीन ऑफिस किराए से लिए थे, जहां पर ये नशा तैयार किया जाता था,  वही आरोपी  नशे के लिए पावडर उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर से लाते थे। जिसके बाद इसमें इसमें पेरासिटामोल का पावडर मिलाकर इसे डबल करते थे। जिस आफिस में नशी का यह कारोबार चलाया जा रहा था उस  आफिस को पॉल्ट्री फ़ीड के लिए लिया गया था लेकिन यहाँ पर यह धंधा किया जा रहा था, आरोपियों से पुलिस को मुजफ्फरनगर और दिल्ली के लोगों के भी इस काम में शामिल होने की जानकारी लगी है जिसके बाद अब पुलिस इन दोनों जगहों का लिंक तलाश रही है। फिलहाल मुख्य आरोपी राघव जिसके नाम से यह आफिस लिए गए थे, वह फरार है, पुलिस उसकी तलाश कर रही है, पुलिस को जांच में यह भी पता चल है कि नशे के इस पाउडर की सप्लाई ब्राउन शुगर के रूप में प्रदेश के मंदसौर, भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, सागर आदि एवं मध्यप्रदेश के बाहर महाराष्ट्र, दिल्ली, पंजाब में होती थी।