Indore : फांसी लगाकर सुसाइड करने जा रही युवती की पुलिस ने बचाई जान, जानें पूरा मामला

युवती ने मानसिक दबाव के कारण खुदखुशी का कदम उठाया था। युवती के पिता की मृत्यु के बाद उसकी मां अपने प्रेमी के साथ घर छोड़कर चली गई थी, जिसके बाद उसपर परिवार की पूरी जिम्मेदारी आ गई थी।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर की पलासिया पुलिस ने एक बार फिर जिम्मेदारी से अपनी ड्यूटी और सामाजिक दायित्व को निभाते हुए एक युवती की जान बचाई। इतना ही नहीं पुलिस ने युवती से दूर चली गई माँ को भी उससे मिलवाया।

ये भी पढ़ें- ऑनलाइन जहर मँगवाकर आत्महत्या करने के मामलें में पुलिस ने किया Amazon के अधिकारियों को तलब

दरअसल, पूरा मामला इंदौर के पलासिया थाना क्षेत्र की बड़ी ग्वालटोली का है। जहां 23 साल की युवती ने रविवार को अपने ही घर में फांसी लगा ली। फांसी के फंदे पर झूलती हुई युवती की खबर जैसे ही पुलिस को लगी वैसे ही पुलिस मौके पर पहुंची और पुलिस आरक्षक भागचन्द्र और श्रवण ने युवती के घर का दरवाजा तोड़कर उसे फांसी के फंदे से उतारा। इसके बाद युवती का पुलिस ने प्राथमिक उपचार कराया और उसकी जान बचाई। हालांकि, पुलिस ने केवल जान बचाकर ही अपने कर्तव्य को पूरा नहीं किया बल्कि युवती की काउंसलिंग भी की ताकि आत्महत्या जैसे जानलेवा फैसले के पीछे का मकसद जाना जा सके और भविष्य में युवती ऐसा कोई कदम न उठाए।

पलासिया थाना प्रभारी संजय बैस ने बताया कि युवती से पूछताछ की जिसमें उसने बताया कि वो पांच बहनों और एक भाई के परिवार में सबसे बड़ी है और जैसे-तैसे वो सभी का पालन पोषण करती है। चार साल पहले उसके पिता का निधन हो गया था, इसके बाद 2 महीने पहले उनकी माँ अपने प्रेमी के साथ चली गई और उसी के साथ रहने लगी। इसके बाद पूरे परिवार की जिम्मेदारी उस पर आ गई। माँ के चले जाने से अचानक उस पर मानसिक दबाव बढ़ गया जिसके बाद उसने सुसाइड करने का फैसला लिया।

इधर, पुलिस को जब ये दुःखद कहानी पता चली तो पुलिस ने तत्तपरता दिखाते हुए युवती के बताए गये पते के आधार पर माँ के पास जाना मुनासिब समझा। वहीं पुलिस ने माँ और बेटी को थाने पर बुलाया जिसके बाद दोनों की काउंसलिंग कर रिश्तों के मायने और परिवार पर ध्यान देने जैसी समझाइश दी तो माँ भी अपने बच्चो के साथ रहने पर राजी हो गई। पुलिस की पूछताछ में युवती की मां ने बताया उसके पति के निधन के बाद वह अकेली पड़ चुकी थी। उसे उसके बचपन का दोस्त मिल गया था जिसके बाद वह दोनों साथ में रहने लगे। फिलहाल, पुलिस के इस मानवीय चेहरे और कोशिश की सराहना न सिर्फ पुलिस महकमा कर रहा है बल्कि शहरवासी भी बेहतर पुलिसिंग से उत्साहित है।