यदि कोविड टेस्ट नहीं कराया तो पुलिस लेगी एक्शन, इंदौर में 2 पर मामला दर्ज, संभवतः भारत में पहला मामला 

कोरोना के हॉट स्पॉट इंदौर में अब यदि कोविड-19 के लक्षण दिखने के बाद अगर किसी ने इलाज और जांच के लिए पहल नहीं की तो पुलिस ऐसे मामलों में उन लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज करेगी।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। कोरोना के हॉट स्पॉट इंदौर में अब यदि कोविड-19 के लक्षण दिखने के बाद अगर किसी ने इलाज और जांच के लिए पहल नही की तो पुलिस ऐसे मामलों में उन लोगो के खिलाफ प्रकरण दर्ज करेगी। दरअसल, हाल ही में इंदौर पुलिस ने कोरोना टेस्ट नही कराने पर स्वास्थ्य विभाग की शिकायत के बाद दो युवकों पर केस दर्ज किया है। ये अपने आप में देश का पहला मामला है।

बता दें कि इंदौर में कोरोना मरीजो की बढ़ती संख्या न सिर्फ आम लोगों की चिंता बढ़ा रही है, बल्कि प्रशासन में लिए भी बड़ी चुनौती का विषय बनी हुई है। लिहाजा, अपने इलाज में लापरवाही बरतने वाले 2 युवकों के खिलाफ अन्नपूर्णा पुलिस ने धारा 188 के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया है। वहीं पुलिस के आला अधिकारियों ने मामले के सामने आने के बाद लोगो से अपील की है, कि महामारी के लक्षण दिखने पर वे तुरंत इलाज कराये।

कोविड-19 के चलते ये अपील इंदौर के पश्चिम क्षेत्र के एसपी महेश चंद जैन द्वारा आम लोगों से की है। उनके मुताबिक कोरोना महामारी में के चलते अपने आप को सुरक्षित रखना और लक्षण दिखने पर तुरंत जांच और इलाज के लिये जाना चाहिए। बता दे कि दो व्यक्तियों द्वारा लक्षण दिखने के बाद जांच और ईलाज में लापरवाही बरतने की शिकायत मिलने पर अन्नपूर्णा थाने पर शिकायत आई और इसके बाद मोनू जैन और प्रवीण पाटनी नामक दो युवकों के खिलाफ धारा 188 के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।

एसपी पश्चिम महेशचंद्र जैन के माने तो महामारी के कोई भी लक्षण मिलते हैं तो व्यक्ति को तुरंत इलाज के लिए जाना चाहिए ताकि उसकी जान के साथ ही उसके परिवार और समाज की जान की रक्षा हो सके। वही इंदौर पुलिस अब ऐसे मामलों को लेकर सतर्क है और शिकायत मिलने के बाद पुलिस ऐसे लोगो पर कार्रवाई भी करेंगी, जो कोरोना को हल्के में लेकर खुद के जीवन के साथ ही दूसरों के जीवन खिलवाड़ कर रहे है।