इंदौर : बेटे ने पहले 500 रुपये में पिता को बेचने की कोशिश की, फिर कर दी हत्या

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के इंदौर में हुई एक घटना ने सबको चौंका दिया, यहाँ रहने वाले एक युवक ने अपने दोस्तों से अपने ही पिता का सौदा करने की कोशिश की, युवक ने कहा कि – ‘कोई मेरे पिता को 500 रुपये में खरीदे तो मैं बेच दूं’,  उसकी इस बात को दोस्तों ने हंसी में लिया, इसके कुछ देर बाद युवक अपने घर चला गया और 85 साल के अपने पिता की गला दबाकर हत्या कर दी, हत्या के बाद वह अस्थि विसर्जन करने भी गया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने लेकिन सच उगल दिया।  पुलिस जब तक केस दर्ज कर आरोपी को पकड़ती वह फरार हो गया।

यह भी पढ़ें… F1 लीजेंड माइकल शूमाकर को मिला नॉर्थ राइन-वेस्टफेलिया सम्मान, आंसू नहीं रोक पाई पत्नी

आरोपी बेटा आशीष गुप्ता अपने दोस्तों के साथ 85 वर्षीय पिता कन्हैया को गंभीर अवस्था में अस्पताल लेकर पहुंचा था, यहां उसने डॉक्टरों को बताया था कि पिता बिस्तर से जमीन पर गिर कर घायल हो गए हैं, कुछ दिनों तक चले उपचार के बाद कन्हैया गुप्ता की मौत हो गई, डॉक्टरों को मामला संदिग्ध लगा तो उन्होंने पुलिस को सूचना दी, इस पर पुलिस ने शव का पोस्टमॉर्टम कराया, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बेटे की करतूत का खुलासा हो गया, पीएम रिपोर्ट में पता चला कि बुजुर्ग की मौत गला दबाने से हुई थी, हालांकि जब पीएम रिपोर्ट डॉक्टर्स के माध्यम से पुलिस के हाथ लगती, तब तक हत्यारा बेटा पिता की अस्थियां विसर्जन करने चला गया था, इस रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने हत्या का प्रकरण दर्ज किया, आरोपी बेटे की तलाश की जा रही है, फिलहाल वह भाग गया है।

यह भी पढ़ें… मंकीपॉक्स के बढ़ते मामलों के बीच केंद्र सरकार की बड़ी बैठक, जारी किए जरुरी दिशा-निर्देश

बताया जा रहा है कि आरोपी नशे की हालत में था दोस्तों से मजाक में पिता को बेचने की बात करने वाला आरोपी घर गया और उसने पिता का गला दबाकर मारने का प्रयास किया, आरोपी बेटे को लगा पिता की मौत हो गई है, वह दोस्त कर घर चला गया, अगले दिन आरोपी ने अपने दोस्त के साथ पिता को गैस सिलेंडर देने का बहाना बनाकर घर आया, वह ढोंग रचने के लिए अपने दोस्तों के साथ घर पहुंचा और पिता को पुकारने लगा, जब पिता की तरफ से कोई जवाब नहीं मिला तो उसने अनहोनी की आशंका व्यक्त की, वह दोस्तों के साथ अंदर गया तो पिता बेहोशी की हालत में पड़े थे, इसके बाद सभी उन्हें अस्पताल लेकर पहुंचे. जिन्हें वह रात में गला दबाकर मरा हुआ समझकर चला गया था, वह कोमा में घर पर पड़े थे, उनकी सांस चल रही थी, आरोपी बेटे ने डॉक्टरों को बताया कि पिताजी घर पर बिस्तर से गिर गए हैं, हालांकि कुछ दिनों तक उनका उपचार चला, लेकिन फिर उनकी मौत हो गई।