इंदौर : गरबा देखने गई मासूम के सिर में गोली लगने से मौत का मामला और उलझा, पुलिस को अब तक नहीं मिला कोई सुराग

बच्ची को यह गोली सिर में उस वक़्त लगी जब बच्ची मां की गोद में बैठकर गरबा देख रही थी। अचानक तभी उसके सिर से अचानक खून का फव्वारा फूट पड़ा। मां को कुछ समझ नहीं आया और वह बेटी को लेकर सीधे अस्पताल पहुंची। बच्ची ने 12 घंटे तड़पने के बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया।

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट।  इंदौर में एक सनसनीखेज मामला पुलिस के लिए चुनौती बन गया है, घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस के हाथ इस मामलें में खाली है, दरअसल इंदौर के हीरा नगर में 11 साल की बच्ची की सिर में गोली लगने से मौत हो गई। बच्ची को यह गोली सिर में उस वक़्त लगी जब बच्ची मां की गोद में बैठकर गरबा देख रही थी। अचानक तभी उसके सिर से अचानक खून का फव्वारा फूट पड़ा। मां को कुछ समझ नहीं आया और वह बेटी को लेकर सीधे अस्पताल पहुंची। घटना मंगलवार रात करीब 10.30 बजे की है। बच्ची ने 12 घंटे तड़पने के बाद अस्पताल में दम तोड़ दिया। गोली किसने चलाई अबतक इसका पता नहीं चल पाया है। पुलिस पिछले तीन दिन से इस मामलें में जांच कर रही है लेकिन तह तक तो दूर पुलिस मामलें की शुरुआती जांच में भी कोई कदम नहीं बढ़ा पाई है। 

यह भी पढ़ें…. बंगाल के जलपाईगुड़ी में दुर्गा विसर्जन के दौरान 8 लोगों की मौत, 25 लापता

हीरानगर थाना क्षेत्र के शारदा नगर में रहने वाली रक्षा शिंदे अपनी बेटी माही और बेटे हार्दिक को लेकर कॉलोनी में चल रहे गरबा देखने के लिए गई थी। बेटी रक्षा की गोद में बैठी थी। कुछ देरा बाद अचानक पटाखे चलने जैसी आवाज आई और माही के सिर से खून का फव्वारा फूट गया। रक्षा ने जैसे ही माही के सिर से खून निकलते देखा वह फौरन लेकर माही को घर दौड़ी, रक्षा को लगा की माही को किसी ने पत्थर मारा होगा। माही पति संतोष के साथ बेटी को लेकर बापट चौराहा स्थित बारोड़ अस्पताल पहुंची। यहाँ अस्पताल ने बच्ची को वहां से ले जाने को कहा। माता पिता माही को लेकर दूसरे अस्पताल पहुंचे, वहां सबसे पहले माही का सिटी स्कैन किया गया। वहां पता चला कि इसे सिर में गोली लगी है। घटना के करीबन 12 घंटे बाद माही की मौत हो गई।

यह भी पढ़ें…. छतरपुर : हाईटेंशन लाइन टूटने से फैला करंट, 22 गायों की मौत

अब इस मामले में FSL टीम ने जांच की है बुधवार को टीम माही के घर और फिर घटनास्थल पहुंची, साथ ही घटना स्थल पर सीन रीक्रिएशन भी कराया गया। एक्सपर्ट्स के अनुसार बच्ची के सिर में जो मेटल जैसा पार्ट मिला है। FSL अधिकारी इस मामले में राइफल से गोली चलने की आशंका जता रहे हैं। राइफल की बुलेट की रेंज खुले में फायर करने पर करीब चार किलोमीटर तक है। निशाना लगाकर मारने पर राइफल की गोली 300 मीटर दूर तक के टारगेट को भेद सकती है। इस मामले में राइफल की बुलेट का टुकड़ा टूट कर लगने की आशंका है। लेकिन अधिकारी अभी स्पष्ट रुप से कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं हैं। वही पोस्टमार्टम करने वाली टीम ने भी इसे मेटल का टुकड़ा बताया है, फिलहाल इस मामलें में पुलिस लगातार जांच में जुटी है वही माही का परिवार सदमे में है, उन्हे भरोसा नहीं हो रहा है कि जिस माही का जन्मदिन कुछ दिन पहले ही मनाया था वो माही इस तरह उन्हे छोड़कर चली गई।