सोशल पुलिसिंग की नायाब मिसाल बनी इंदौर की राऊ पुलिस

इंदौर|आकाश धोलपुरे|  सोशल पुलिसिंग (Social policing) का अनूठा अंदाज इन दिनों मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में देखने को मिल रहा है यहां पुलिस के आला अधिकारी से लेकर थाना स्तर के पुलिस अधिकारी व कांस्टेबल लोगो को खुशियां बांटते नजर आ रहे है। इंदौर में तो राऊ थाना पुलिस कोरोना संकट के बीच एक मिसाल बनकर सामने आई है।

बता दे कि इंदौर में यूं तो लॉक डाउन के चलते पुलिस का खौफ है लेकिन इस बीच पुलिस आम लोगो को इंसानियत के नाते खुशियां बांटते नजर आ रही है। लॉक के दौरान किसी को मुर्गा तो किसी को मेंढक बनाने वाली पुलिस अब ना सिर्फ लोगो की सालगिरह सेलिब्रेट कर सरप्राइज दे रही है| बल्कि जरूरतमन्द लोगो के लिए जूते व चप्पल की व्यवस्था भी कर रही है। यही नही लोगो की मददगार बनी राऊ पुलिस की एक आरक्षक ने तो खुद की शादी को भी कोरोना संकट और लॉक डाउन के चलते टाल दिया है और अब वो लोगो की मदद करने में जुटी हुई है।

वरमाला करवाने के साथ ही राहगीरों को जूते व चप्पल पहनवाये
राऊ पुलिस को जब अनिल यादव नामक एक युवक ने जानकारी दी कि विवाह के दौरान उनके दोस्त राजा पाल अपनी धर्मपत्नि रागिनी के साथ वरमाला की रस्म नही निभा पाये थे ऐसे में उनकी सालगिरह के मौके पर पुलिस उनको सरप्राइज के तौर पर वरमाला की रस्म करवा दे तो ये प्रयास दम्पति के लिए किसी बड़े तोहफे से कम नही होगा। इसके बाद राऊ में रहने वाले महू एसडीओपी कार्यालय में पदस्थ आरक्षक राजा पाल और उनकी पत्नि को राऊ पुलिस ने गुरुवार रात को सरप्राइज दिया और वरमाला की रस्म करवाई। इस दौरान राऊ थाना उपनिरीक्षक अनिला पाराशर और कांस्टेबल डिम्पल ने गाना गाकर दम्पति को शुभकामनाएं दी साथ ही केक की कमी ना खले इसलिये रस्म के तौर पर खरबूजा काटा गया। इधर, मालवीय नगर में रहने वाले प्रकाश और बबीता सिसोदिया की एनिवर्सरी को भी अनूठे अंदाज में सेलिब्रेट करने का मौका पुलिस ने दिया और केक कटवाकर उनकी खुशियां, मधुर गीतों के साथ दोगुनी कर दी।

जरूरतमंदों को पहनाये जूते चप्पल
सोशल पुलिसिंग ये सिलसिला आज भी राऊ थाना क्षेत्र में जारी रहा। शुक्रवार को राऊ गोल चौराहा के समीप थाना प्रभारी दिनेश वर्मा ने थाने के स्टाफ को लेकर एक अनूठी मुहिम शुरू की और पैदल चलकर एक स्थान से दूसरे स्थान तक जा रहे जरूरतमन्द राहगीरों को नए जूते व चप्पल दिए ताकि उन्हें तपती सड़क पर नंगे पैर चलने में परेशानी न हो। राऊ टीआई दिनेश वर्मा ने बताया कि पुलिस कोशिश कर रही है कि दूर दराज से पैदल चलकर अपने घरों तक जाने वाले लोगो को वो कोई साधन उपलब्ध करवा दे बावजूद इसके कई लोग पैदल जा रहे है जिन्हें पुलिस द्वारा जूते व चप्पल भेंट किये जा रहे है ताकि वो सड़क पर बिना किसी परेशानी के चल सके। हालांकि पुलिस द्वारा जो भी मानवीय कार्य किये जा रहे है उनमे सोशल डिस्टेसिंग का खास तौर पर ख्याल रखा जा रहा है। पुलिस के इन प्रयासों की सराहना ना सिर्फ शहरी क्षेत्र बल्कि ग्रामीण क्षेत्र में भी खूब की जा रही है।

सोशल पुलिसिंग की नायाब मिसाल बनी इंदौर की राऊ पुलिस