डीएवीवी में नैक का निरीक्षण शुरू, अलग अलग विभागों की होगी जांच

इंदौर।

अभी तक आपने सुना होगा कि इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय से संबद्धता रखने वाले कॉलेज की परीक्षाएं विश्वविद्यालय का लेता है लेकिन आज यानी 21 नवंबर को इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय की परीक्षा शुरू हुई जो कि 3 दिन चलेगी और डी ए वी वी के मार्क्स का फैसला यूजीसी करेगी.. आई हुई नैक की टीमें बटी तीन भागों में बटी टीम ए में 1.रमेश के गोयल दिल्ली 2 अलका अग्रवाल उत्तर प्रदेश 3.उमेश कुमार सिंह..बिहार टीम बी .मघुमंगलपाल .वेस्ट बंगाल 2.श्रीजीत पी एस..केरला टीम सी 1.वेंकयावउन्नम.तेलंग्गना 2.पम्मा मुखर्जी..चंडीगड़ 3.बसंत कुमार मालिक. उड़ीसा से शामिल थे और फिर टीमों ने अलग अलग विभागों का दौरा  शुरू किया।  

दरअसल, हर पांच साल में होने वाले नेक के दौरे की ओर आखिर नेक निरीक्षण की 8 सदस्य टीम इंदौर के देवी अहिल्या विश्वविद्यालय पहुंची ओर सात बिंदुओं पर विश्वविद्यालय का जायजा लेना शुरू किया ।आने वाली ने की टीम ने शैक्षणिक गतिविधियों प्लेसमेंट और अन्य बिंदुओं पर अपनी जांच शुरू की ।निरीक्षण 21 नवंबर को देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के खंडवा रोड स्थित ईएमआरसी डिपार्टमेंट से विधिवत शुरू हुई।  शुरुआत के पहले विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर रेणु जैन ने पीपीटी प्रेजेंटेशन दिया और इसके बाद विभागों का निरीक्षण शुरू हुआ ।

नेक की टीम के सदस्यों ने ईएमआरसी से निरीक्षण की शुरुआत करते हुए अलग-अलग विभागों में जाकर इंफ्रास्ट्रक्चर सेटिंग व्यवस्था के साथ पढ़ाई का स्तर भी देखा लाखों रुपए खर्च और कुलपति सहित अन्य अधिकारियों की कई महीनों की मेहनतों का नतीजा आई हुई नेक की टीम तय करेगी तीन दिवसीय नेक निरीक्षण के बाद फिर चार अलग-अलग टीमें अपने मुताबिक यूनिवर्सिटी की जांच पड़ताल करके अपने द्वारा तैयार गए की गई रिपोर्ट यूजीसी को पहुंचाएंगे और फिर ते होगा के कुलपति डॉ रेनू जैन और अन्य अधिकारियों की उम्मीद ए प्लस प्लस ग्रेड देवी अहिल्या विश्वविद्यालय को मिलता है या नहीं हालांकि पिछले कई महीनों की मेहनत का नतीजा विश्वविद्यालय के आरएनटी मार्ग परिसर और खंडवा रोड स्थित पूरे परिसर में साफ-सफाई रंग रोगन हरियाली बेहतर तो नजर आ रही है। लेकिन ए प्लस ए का फैसला तो तीन दिनों के बाद पहुंचाई जाने वाली रिपोट के बाद ही सामने आएगा। हलाकि कुलपति ने मिडिया से बात करते हुए अपनी और विभाग अध्यक्षों की मेहनत पर यकीं जताते हुए बेहतर से बेहतर परिणाम आने की बात कही है।