प्रदेश के ऊर्जा मंत्री ने की सायकिल सवारी की तरफदारी, कांग्रेस पर साधा निशाना

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar) ने कांग्रेस (Congress) पर जमकर निशाना साधा। लेकिन जब पेट्रोल और डीजल की मूल्य वृद्धि पर सवाल उठा तो वो सायकिल की सवारी की दुहाई देने लगे। इस दौरान ऊर्जा मंत्री तल्ख अंदाज में कहते दिखाई दिए कि पेट्रोल डीजल की मूल्यवृद्धि को न देखा जाए बल्कि समझे कि ये पैसा किसी की जेब मे नही बल्कि संकटकाल मे गरीबो की सेवा के लिए उपयोग में लाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें… भिण्ड में 200 मीटर तक जमीन फटी, ग्रामीण दहशत में, प्रशासन बेसुध

दरअसल, प्रदेश के ऊर्जा मंत्री आज इंदौर प्रवास पर है और उन्होंने मीडिया से बात कर कहा कि हमारी सरकार में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े कहां है। और बिजली के दामो की मूल्यवृद्धि को लेकर कहा की प्रदेश में 1 करोड़ 20 लाख घरेलू उपभोक्ताओं में से 1 करोड़ लोगों को 100 यूनिट बिजली 100 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से दी जा रही है। ऐसे में किसका बिल बढ़ गया है। वहीं उन्होंने कहा कि डेढ़ साल पहले ट्रिपिंग की स्थिति क्या थी ? लेकिन डेढ़ माह के अंदर विद्युत की शिकायत कम आई है। जो कि रिकार्ड में है।

ट्रिपिंग के आंकड़े बताने के बाद ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि वर्तमान हालात को देखते हुए कमी की गुंजाइश कम है। क्योंकि सरकार की सोच है कि संकटकाल में गरीबो को राशन निःशुल्क मिल जाये और स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में कमी न आये। वहीं उन्होंने कहा कि राजस्थान और महाराष्ट्र में कोरोना पर कंट्रोल नहीं हुआ है। और हमे हमारे सीएम और पीएम पर गर्व है कि वैक्सिनेशन निःशुल्क कराया जा रहा है। वही उन्होंने ये भी कहा कि विद्युत मूल्य वृद्धि का कारण कांग्रेस सरकार है।

वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजयसिंह को लेकर ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उनको लेकर मैं क्या बोलू और क्या न बोलू वो बहुत वरिष्ठ नेता है और प्रधानमंत्री के लिए उन्होनें जो शब्द बोले है ये ही शब्द अगर एक राज्यसभा सांसद के नाते दिग्विजयसिंह को बोले जाए तो उनको कैसे लगेंगे। जिस पीएम ने फ्री वैक्सिन और दिन रात एक कर ऑक्सीजन संकट को खत्म कर महामारी से उबारा उनको लेकर ऐसे बयान देना मुझे ऐसा लग रहा है कि गर्मी के समय मे दिमागी सन्तुलन खोने का असर दिग्विजय सिंह पर आ गया है। उनका मानसिक संतुलन थोड़ा सा बिगड़ गया है।

हालांकि मीडिया से बातचीत के दौरान उन्होंने पेट्रोल डीजल की मूल्य वृद्धि को लेकर अजीबोगरीब जबाव दिया। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि हम सब्जी मंडी जाते है तो क्या सायकिल से जाते है क्या ? जो हमे शारिरिक रूप से स्वस्थ रखेगी और प्रदूषण को कम रखेगी। उन्होंने कहा कि हमारे लिए पेट्रोल डीजल महत्वपूर्ण है या फिर देश की स्वास्थ्य सेवाएं ! उन्होंने खुद का उदाहरण देते हुए पिछले 30 दिन की उनकी डायरी देखने की दुहाई भी दी। उन्होंने इंदौर में महंगाई की बात स्वीकार कर ये भी कहा कि पेट्रोल डीजल के बढ़े दाम किसी व्यक्ति विशेष या नेता के घर पर नही जा रहे है और वो पैसा घूम फिरकर उस गरीब व्यक्ति के पास जा रहा जिसे इलाज की जरूरत है। इससे देश के गरीबो को निःशुल्क इलाज और राशन दिया जा रहा है। जो देश के लिए जरुतर थी उसके लिए निर्णय देश के पीएम ने लिया है।

हालांकि, ये बात अलग है कि मंत्री जी की ऊर्जा इंदौर में कुछ अलग अंदाज में दिखी और इसी का परिणाम था कि वो सायकिल की वकालत करते नजर आए ऐसे में अब लोग मंत्रीजी में सायकिल के रिकार्ड को जरूर खंगालेंगे क्योंकि सायकिल चलाओ तन्दरुस्त हो जाओ और महंगाई को भूल जाओ।