इंदौर।आकाश धौलपुरे।

इंदौर में आज ऐसा कुछ हुआ की जिसने उस नजारे के बारे में सुना वो कांप गया। दरअसल, इंदौर के 48 वर्षीय व्यक्ति ने खुद को शेर का भोजन बनने के लिए प्राणी संग्रहालय का रुख किया और वो शेर के बाड़े में कूदने की कोशिश करने लगा गनीमत ये रही कि सही समय पर वहां मौजूद सुरक्षा गार्ड ने उसे देख लिया और उसे कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार उतार लिया गया। इसके बाद कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय प्रबंधन ने घटना की जानकारी पुलिस को दे दी जिसके बाद पुलिस ने जान जोखिम में डालकर खुदकुशी की चाहत रखने वाले व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया।

बताया जा रहा है युवक मानसिक रूप से बीमार है। वह कर्ज और परिवार से परेशान होने की बात कह रहा था। चिडिय़ाघर कर्मचारियों की सजगता से वह बचा युवक जब कूदने की कोशिश कर रहा था उसी वक्त उसके करीब एक शेर आ गया था। आखिर में युवक को जू प्रबंधन ने पकड़कर पुलिस को सौंप दिया। पुलिस की माने युवक का नाम विजय सिंह झाला निवासी परदेशीपुरा है और आज उसने आत्महत्या की कोशिश की। पुलिस के मुताबिक युवक मानसिक तौर पर परेशान होने के साथ ही कर्ज में डूबा है जिसके चलते उसने आज शराब के नशे में खुदकुशी का ये तरीका अपनाया। युवक ने पुलिस को बताया कि वह पशु और प्रकृति प्रेमी है और इसलिए मरने के बाद भी वह प्रकृति के काम आना चाहता था इसलिए उसने ये कदम उठाया। 

चिडिय़ाघर में वह अकेला ही आया था। युवक का नाम विजय झाला है। पकड़ाने के बाद वह बहकी-बहकी बातें कर रहा था। युवक ने थाने में कहा कि घर की समस्या से परेशान हूं। एक बेटा है जो 10वीं में दो बार फेल गया है। घटना के लिए मैं खुद जिम्मेदार हूं। उसने बताया कि पिंजरे पर चढऩे में उसके कपड़े भी फट गए। बाघ उसकी तरफ काफी पास तक आ गया था। हालांकि शेर के बाड़े में कूदकर जान देने की कोशिश का यह पहला मामला नही है इसके पहले भी कई लोग ऐसे कारनामो को अंजाम देने की कोशिश में प्राणी संग्रहालय प्रबंधन की मुश्किलें बढ़ा चुके है। फिलहाल, ताजा मामले में कर्मचारियों की सजगता के चलते एक जान बचा ली गई है अब पुलिस पूरे मामले की जांच कर कार्रवाई में जुट गई है।