समर्थकों की दबंगई पर मंत्री की सफाई, कानूनी प्रक्रिया के लिए निगम स्वतंत्र

इंदौर| प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के समर्थकों को निगम अधिकारियों ने सबक सिखाने का मन बना लिया है। निगम कर्मियों के साथ मारपीट के मामले में निगम अधिकारी एफआईआर करवाने में जुट गए हैं। वही इस मामले में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने भी सफाई दी है।

मंत्री सिलावट का कहना है कि समर्थकों और निगम कर्मियों के विवाद का मामला मेरे संज्ञान में देर रात को आया है। इस मामले में मैंने सभी समर्थकों को और कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए हैं कि किसी के भी जन्मदिन पर बैनर और पोस्टर नहीं लगाए जाए। बैनर पोस्टर प्रदेश की सुंदरता को खराब करते हैं, इसलिए प्रदेश में कहीं भी बैनर पोस्टर नहीं लगना चाहिए। मैं खुद भी बैनर पोस्टर लगाने के खिलाफ हूं, इसलिए निगम को कार्रवाई के लिए मैंने धन्यवाद भी दिया है। वहीं निगम द्वारा एफआईआर करवाए जाने के मामले में सिलावट का कहना है कि निगम कानूनी प्रक्रिया के लिए स्वतंत्र है, हालांकि उन्होंने समर्थकों को समझाईश दी है कि बैनर पोस्टर लगाने के बजाय उन पैसों से गरीब बस्तियों में जाकर जन्मदिन मनाएं। 

गौरतलब है कि  प्रदेश के मुखिया सीएम कमलनाथ प्रदेश को बदरंग बनाने वाले अवैध बैनर पोस्टर को सख्ती से हटाने के निर्देश दे चुके हैं, लेकिन बावजूद इसके प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट के समर्थकों ने ना सिर्फ उनके जन्मदिन पर बैनर पोस्टर लगाए, बल्कि निर्देश अनुसार कार्रवाई करने पहुंचे निगम कर्मचारियों की लठ्ठ से पिटाई भी की थी,जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।इसके बाद ही निगम ने मामले में एफआईआर करवाने का मन बनाया है।