मंत्री जी! जब फ्री है वैक्सीनेशन, तो काहे का डोनेशन…

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश की पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने इंदौर में गुरुवार को एक बड़ा बयान दिया है। उषा ठाकुर ने वैक्सीनेशन में देश और विश्व में सबसे तेजी से इंदौर के रिकार्ड बनाने को लेकर बीजेपी कार्यकर्ताओं की सरहाना करते हुए कहा कि इंदौर में बूथ स्तर पर बीजेपी के कार्यकर्ता जुटे थे। लिहाजा, एक ही दिन में इंदौर में 2 लाख से ज्यादा लोगों का वैक्सीनेशन संभव हो पाया। यहां तक तो ठीक है, लेकिन फिर मंत्री उषा ठाकुर ने उन लोगों से एक ऐसी अपील कर दी जिस पर अब सवाल उठाये जा रहे हैं कि आखिर वो पीएम की मुफ्त वैक्सीनेशन योजना से अलग राय क्यों जाहिर कर रही हैं।

Ratlam : बेलगाम अधिकारी, वैक्सीनेशन के लिए आए युवक को SDM ने धक्के मारकर बाहर निकाला

अपने बयानों को लेकर अक्सर ही सुर्खियों में रहने वालीं पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर ने गुरूवार को इंदौर के लालबाग में मीडिया से चर्चा करते हुए ऐसा बयान दिया है जो सुर्खियों में है। उनका कहना है कि महा वैक्सीनेशन अभियान में इंदौर प्रथम आया जो कि हम सबकी प्रसन्नता का विषय है। माँ अहिल्या की पावन नगरी स्वच्छता में नम्बर 1 होते होते स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता में भी नम्बर 1 बनी और ये विश्व रिकॉर्ड बना है कि एक दिन इतने अधिक टीके लगाए गए। ये आश्चर्य के साथ प्रसन्नता का विषय है और इसके पीछे  बीजेपी कार्यकर्ताओं की अथक मेहनत है। बीजेपी पार्टी संगठन ने भी बूथ स्तर पर एक एक कार्यकर्ता को जवाबदारी दी थी कि मतदाता सूची के आधार पर अपने अपने बूथ को टेली करें कि किसे टीका लगा है और किसे नहीं।

वहीं आगे मंत्री उषा ठाकुर ने कहा कि मैं इस मौके पर  एक अपील करती हूं कि कोविड की विसंगतियों की वजह से सब व्यवस्थाएं प्रभावित तो हुई है। ऐसे में मैं सभी से प्रार्थना करती हूं कि यदि प्रभु ने हमें सक्षम और समर्थ बनाया है तो कोवैक्सीन जो हमें लगाई गई है और प्रति व्यक्ति एक डोज 250 रुपये का होता है, यदि हम दोनों डोज लगवा चुके हैं तो मैं सबसे हाथ जोड़कर प्रार्थना करना चाहती हूं कि 500 रुपये पीएम केयर फंड में डालें। जो भी सक्षम और समर्थ हैं वे ये अवश्य करें, ये ही मेरा निवेदन है। सरकार की मुफ्त वैक्सीनेशन योजना को लेकर उनके इस बयान के बाद अब कई तरह के सवाल उठने लगे हैं।