कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज के बिना अब बैंक में प्रवेश नहीं, 1 दिसंबर से नियम लागू

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। अब अगर आपने कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज नही लगवाया है तो आपको बैंक में प्रवेश नही मिलेगा। 1 दिसंबर से इंदौर में सख्ती की जा रही है। इंदौर प्रदेश का एक ऐसा शहर है जहां कोरोना ने पहली और दूसरी लहर में सबसे ज्यादा कहर बरपाया था, इंदौर में कोरोना वैक्सीन को लेकर हर स्तर पर प्रशासन प्रयास कर रहा है कि लोग कोरोना टीके की दूसरी डोज जरूर लगवाए,कोरोना के टीके की दूसरी डोज लगवाने के लिए हर स्तर पर लोगो को जागरूक किया जा रहा है। अब बैंकों ने भी तय किया है कि कोरोना का, दूसरा डोज न लगवाने वाले ग्राहकों को एक दिसंबर से बैंक में प्रवेश नहीं मिल पाएगा। ऐसे में ग्राहक बैंक जाकर लेनदेन और अन्य काम नहीं कर पाएंगे। इसी तरह आइटी-बीपीओ कंपनियों ने अपने कर्मचारियों के लिए यह अनिवार्य किया है कि वे 30 नवंबर तक टीके की दूसरी डोज अवश्य लगवा लें।  प्रशासन के आदेश के अनुसार बैंक आने वाले ग्राहकों को यह बताया जा रहा है कि वे 30 नवंबर तक टीके की दूसरी डोज लगवा लें। इसके बाद एक दिसंबर से ऐसे ग्राहकों का प्रवेश रोक दिया जाएगा जो दूसरी डोज लगवाकर नहीं आए हैं। उनके वैक्सीनेशन के प्रमाण-पत्र देखे जाएंगे।

CM Shivraj ने आदिवासी कलाकारों को दिया बड़ा तोहफा, 5 लाख रुपये तक की घोषणा

इंदौर में भी कोरोना के टीकाकरण को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह ने बैंक, कियोस्क संचालक, निजी ठेकेदार, आइटी कंपनियों के प्रतिनिधियों की बैठक ली। इसमें कलेक्टर ने कहा कि कोई भी शासकीय और निजी ठेकेदार ऐसे मजदूरों से काम नहीं कराएगा, जिन्हें टीके की दूसरी डोज नहीं लगी है। उन्होंने ठेकेदारों से कहा कि यह आप सबकी जिम्मेदारी है कि आपके यहां काम करने वाले स्टाफ और मजदूरों को कोरोना के टीके का दूसरा डोज लग जाए। कोई भी बिल्डर और कालोनाइजर तय करे कि उनके यहां कार्य कर रहे मजदूर वैक्सीन की दूसरी डोज लगाए बिना नहीं रहेंगे।