रिश्वत लेते पकड़ाए पुलिसकर्मी तो थाना प्रभारी पर गिरेगी गाज, एसपी ने जारी किए आदेश

इंदौर। मध्य प्रदेश में लगातार पुलिस द्वारा रिश्वत लेने के मामले उजागर हो रहे हैं। जिससे पूरे विभाग की छवि खराब हो रही है। साथ ही आला अफसरों पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। पुलिस की छवि सुधारने और रिश्वत के मामले पर लगाम लगाने के लिए डीआईजी ने सख्त रवैया अपनाया है। उन्होंने बदनाम पुलिसवालों की संपत्ति की जांच करवाना शुरू कर दिया है। दूसरी ओर एसपी ने भी एक फरमान जारी कर साफ कर दिया है कि अगर किसी भी थाने का पुलिसवाला रिश्वत के मामले में पकड़ा जाता है तो इसके जिम्मेदार संबंधित थाने का थाना प्रभारी होंगे। 

एसपी के इस आदेश के बाद से इंदौर पुलिस में हड़कंप मच गया है। एसपी (पश्चिम) अवधेश गोस्वामी ने मीडिया को बताया कि  हाल ही में लोकायुक्त ने सिमरोल थाने में पदस्थ सिपाही विजेंद्र धाकड़ और सैनिक दीपक पटेल को गिरफ्तार किया था। लोकायुक्त ने जांच में थाना प्रभारी आरके नैन को भी दोषी पाया और आरोपित बना दिया। इसके बाद मानपुर में छापा मारा और सिपाही राजीव कुमार को रिश्वत लेते पकड़ लिया।

गुस्साए एसपी ने जिले के सभी थाना प्रभारियों को एक पत्र जारी कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर मातहत रिश्वत लेते पकड़ा गया तो थाना प्रभारी भी जिम्मेदार होंगे। उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। एसपी ने बैठक में सामूहिक रूप से बदनाम थाना प्रभारी को फटकार भी लगाई और कहा कि वसूली के 15 तरीकों पर नजर है। शिकायत मिली तो लोकायुक्त के पहले वे खुद कार्रवाई करेंगे।