मराठा ने ऐसी रची थी संदीप की हत्या की साजिश, प्रोडक्शन वारंट पर इंदौर लाएगी पुलिस, खुलेंगें कई राज

Police-will-bring-Maratha-to-Indore-on-a-production-warrant

इंदौर। आकाश धौलपुरे।

16 जनवरी की शाम को इंदौर कमोडिटी कारोबारी संदीप अग्रवाल उर्फ संदीप तेल को गोली मारकर जघन्य हत्याकांड को अंजाम दिया गया था। जिसके बाद से ही ये हत्याकांड इंदौर पुलिस के लिए एक बडी चुनौती बन गया था लिहाजा शक के आधार पर पुलिस ने अलग – अलग स्थानों पर दबिश देकर तकरीबन सौ ज्यादा लोगों से पूछताछ की। वही कमोडिटी कारोबारी के विजय नगर स्थित दफ्तर को सील से पुलिस से दस्तावेज भी प्राप्त हुए है जो कई लोगों की हकीकत दुनिया सामने लाने के लिए काफी है। फिलहाल, पुलिस ने जिन शूटरों ने हत्या की थी उसके सरगना (संदेही) सुधाकर राव मराठा याने एसआरएम को प्रोटेक्शन वारंट के तहत राजस्थान से इंदौर लाने की तैयारी पूरी कर ली और आज उसे इंदौर लाया जाएगा जहां पुलिस कडी पूछताछ करेगी। 

फिलहाल, प्रारंभिक पूछताछ मे सुधाकर राव मराठा ने आखिरकार हत्या की बात कबूल की है जिसमें  ये उसने उन शूटर्स के नाम भी बताएं जो देवास में रहकर संदीप तेल की रैकी बीत एक माह से रेकी कर रहे थे।  मराठा ने बताया कि विकास तिवारी, अज्जू उर्फ अजय भोई ने संदीप को गोली मारी थी और उनके साथ सतपाल जाट व शैलेंद्र भी थे। हालांकि पुलिस को पहले ही एसआर चैनल के डायरेक्टर रोहित सेठी पर शक था जिसका 19 करोड़ रुपये का लेन देन संदीप से और जो हत्या के बाद से ही इंदौर से बाहर चला गया था और उसने दुबई जाने की तैयारी भी कर ली थी लेकिन इसके पहले ही इंदौर पुलिस ने एयरपोर्ट प्रबंधनो को उसकी जानकारी दे दी थी जिसके चलते वह दुबई नही जा सका और सूत्रों से पता चला है उसने प्रदेश की राजधानी भोपाल में पनाह ले रखी और कभी भी वो संरेडर कर सकता है। हालांकि पुलिस ने रोहित का पासपोर्ट सीज कर लिया है और उसके खिलाफ लुक आउट सर्कुलर नोटिस भी जारी कर दिया है। इधर, पुलिस ने बदमाश मनोहर वर्मा और पिंटू ठाकुर पहल ही दिन पकड लिया था वही रोहित के चैनल पार्टनर सुशील बजाज की तलाश भी पुलिस कर रही है। इसके अलावा संदेही प्रेम प्रजापति, गब्बर चिकना, अल्पेश चैहान, हैप्पी धवन अभी फरार है।

पांच माह पहले रैकी के लिए आया था सुधाकर राव मराठा

संदीप तेल के एसआर चैनल में बढते हस्तक्षेप का ही परिणाम था कि रोहित सेठी ने उसे एक साजिश के तहत से चैनल से बाहर का रास्ता दिखा दिया था जिसके बाद से ही संदीप तेल अपने 19 करोड रुपये की मांग करने लगा था लिहाजा रोहित ने अपनी पीडा अपने साथियो को बताई जिसके बाद मंदसौर में रोहित के करीबी युवराज सिंह ने सुधाकर राव मराठा से बात कर उसकी मुलाकात रोहित सेठी से करवाई। खबरो की माने हत्या की साजिशे रची जाने लगी थी और करीब 5 माह पहले मराठा इंदौर में रैकी के लिए हिंदू संगठन के एक कार्यक्रम के बहाने आया था। जिसके बाद एमआर 10 चैराहे के पास एक बैठक की गई लेकिन बात नही बनी। इसके बाद मराठा, रोहित सेठी से लगातार चर्चा में रहा और आखिर में 16 जनवरी की शाम को शूटरो दनादन गोलियां बरसाकर संदीप तेल की हत्या कर दी और मौके से भाग  खडे हुए।

हत्या के वक्त सभी संदेही एक साथ फ्लैट में थे

16 जनवरी की शाम को जिस वक्त शूटरो ने डिब्बा कारोबारी पर गोलियां बरसाई थी उस वक्त सभी संदेही एक साथ लसूडिया इलाके के एक फ्लैट में थे। इस बात की जानकारी पुलिस को संदेही मनोहर वर्मा से पूछताछ के बाद हाथ लगी हालांकि इस मामले का एक दूसरा पहलू ये भी है कि पुलिस के पास 16 जनवरी को इस बात की जानकारी आई थी लेकिन पुलिस ने कोई तत्परता नही दिखाई जिसके चलते हत्याकांड की गुत्थी उलझती गई और पुलिस विफल नजर आई। 

एक करोड की सुपारी और एसआरएम ने दिया वारदात को अंजाम

आला पुलिस अधिकारियों की माने तो सुधाकर राव मराठा ने रोहित और संदीप के बीच के विवाद के बाद संदीप की  हत्या की सुपारी एक करोड़ रुपये में ली थी इसी बात को आधाार बनाकर पुलिस रोहित सेठी की तलाश कर रही है। मराठा से प्रारंभिक पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि हत्याकांड के एक माह पहले से ही शूटर देवास में रहने लगे थे और वो रैकी करने इंदौर आते थे। इस काम में शूटरो की मदद देवास के 2 – 3 बदमाश कर रहे थे। फिलहाल पुलिस ने देवास के संदेही बदमाशो को हिरासत में ले लिया है। इधर, मराठा ने पुलिस पूछताछ के दौरान कई बार बयान भी बदले। मिली जानकारी के मुताबिक क्राइम ब्रांच ने जब हत्या की वजह पता की तो पहले मराठा ने कहा कि संदीप तेल द्वारा लोगो को परेशान किया जा रहा था जिसकी शिकायते मिल रही थी। इसके बाद सुधाकर मराठा ने बताया कि संदीप, शाकिर चाचा की गैंग को सर्पोट करता था वही अंत में आखिरकार वह पुलिस के सामने टूट गया और उसने कबूल किया कि रोहित सेठी के कहने पर उसने हत्या की है। बता दे कि हत्या के बाद योजनाबद्ध तरीके से सुधाकर राव मराठा राजस्थान के निंबाहेडा में मारपीट के मामले में जेल चला गया जिसके बाद इंदौर पुलिस ने तफ्तीश की और आखिर के प्रोटेक्शन वारंट के जरिये उसे इंदौर लाने की तैयारी शुरु कर दी। आज मराठा के इंदौर लाया जाएगा। 

डिब्बा कारोबारी संदीप तेल की प्राॅपटी पर उठे सवाल ?

संदीप तेल की हत्या के बाद पुलिस ने उसका आॅफिस सील करने के पहले दो पेटी दस्तावेज जब्त किए वही उसकी काॅल रिकार्डिंग और डेटा भी रिकवर किया गया जिससे पता चला  है कि मृतक संदीप तेल से कई लोग पीड़ित थे। रुपये के लेन देन में उसका व्यवहार बुरा रहता था और वह देनदार के परिवार की महिलाओ को रकम चुकता नही होने तक बैठाकर रखता था। मिली जानकारी के मुताबिक तकरीबन 100 करोड रुपये तो बाजार में ब्याज परर संदीप ने चला रखे थे वही 150 करोड रुपये की संपत्ति के दस्तावेज भी मिले है। इन सब बातों की जानकारी पुलिस ने मय प्रमाण इनकम टैक्स  विभाग को दे दी है। 


बदमाशो की गैंग निपटा रही है प्राॅपटी के सौदे

तेजी से बढते इंदौर में डिब्बा कारोबारी की हत्या के बाद कई खुलासे हो रहे है।  बता दे कि इंदौर में एक ऐसी गैंग सक्रिय हुई है जो बिल्कुल नई है और उसका काम करने का ढंग भी अनूठा है। इस गैंग में हत्याकांड के कई संदेही शामिल है। ये गैंग पुलिस और प्रशासन के बडे अधिकारियो से बेहतर संबंध बनाती है और प्रापर्टी के मामलो को निपटाकर दोनो ही पार्टियों से बडी रकम वसूलती है। हालांकि पुलिस इस नई गैंग के बारे में भी पूछताछ में जुटी हुई है क्योंकि ये गैंग जमीन धोखधडियो और वसूली के मामलो का निपटारा करती  है और यदि इनकी शिकायत पुलिस में की जाती है तो अधिकारियों के संबंध के दम पर गैंग रिपोर्ट भी नही होने देती है। फिलहाल, संदीप हत्याकांड ने मिनी मुंबई की व्यवस्थाओ पर कई सवाल खडे कर दिए है और नया गुंडाराज भी पनपने लगा है जिसमें दुश्मन दोस्त बनकर बडे सौदो का निपटा रहे है।