Indore News- पेट्रोल-डीजल के दामों में आग, बैलगाड़ी लेकर सड़कों पर उतरी कांग्रेस

कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला (Congress MLA Sanjay Shukla) ने बताया कि 2014 में कांग्रेस की मनमोहन सरकार के वक्त पेट्रोल के दाम 65 रुपये थे तब बीजेपी ने बवाल मचा रखा था और अब जब दाम इतने बढ़ गए है तो बीजेपी (BJP) के पास कोई जवाब नही है।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) के सेंटर पाइंट रीगल तिराहे पर शनिवार को अजीब नजारा देखने को मिला। दरअसल, यहां कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल  एक टू व्हीलर पर सवार थे लेकिन वो टू व्हीलर बैलगाड़ी पर सवार थी।इसी तरह से एक एक कर कई बैलगाड़ियों पर सवार होकर कांग्रेसी नेता व कार्यकर्ता रीगल तिराहे पहुंचे।

यह भी पढ़े… मंत्री विश्वास सारंग का कमलनाथ और राहुल गांधी पर तंज- पैराशूट लैंडिंग में काबिलियत ख़त्म

विरोध जताने का ये नायाब तरीका कांग्रेसियो को इसलिए अपनाना पड़ा ताकि केंद्र सरकार पेट्रोल और डीजल के दामो में हो रही वृद्धि को रोके। इतना ही कांग्रेसियो ने केंद्र और प्रदेश में बैठी बीजेपी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी और बाद में वो विरोध स्वरूप धरने पर बैठ गए।

दरअसल, कांग्रेस ने न सिर्फ पेट्रोल – डीजल (Petrol-Diesel) की आसमान छूती कीमतों पर ऐतराज जताया बल्कि घरेलू और कमर्शियल गैस सिलेंडरों (Household and Commercial Gas Cylinders) के बढ़ते दामो और किसानों को लिए लाए गयर कृषि विधेयक बिलो (Agricultural Bill) को काला बताकर जमकर विरोध किया।

धरने के दौरान शहर कांग्रेस के कई बड़े नेता व महिला नेत्रियां मौजूद रहे। इस मौके पर शहर कांग्रेस अध्यक्ष विनय बाकलीवाल (Vinay Bakliwal) ने बढ़ती महंगाई पर केंद्र और राज्य सरकार  (Central And State Government ) पर जमकर निशाना साधा और प्रति यूनिट बिजली (Electricity) के दामो के बढ़ाये जाने को लेकर भी चिंता व्यक्त कर जिम्मेदार सरकार को जमकर कोसा।

यह भी पढ़े…VIDEO- इंदौर में 3 मंजिला जूते के शोरूम में भीषण आग, लाखों का नुकसान

वही इंदौर से संभावित महापौर प्रत्याशी और कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला (Congress MLA Sanjay Shukla) ने बताया कि 2014 में कांग्रेस की मनमोहन सरकार के वक्त पेट्रोल के दाम 65 रुपये थे तब बीजेपी ने बवाल मचा रखा था और अब जब दाम इतने बढ़ गए है तो बीजेपी (BJP) के पास कोई जबाव नही है।

वही उन्होंने दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर कहा कि सरकार को काले कानून वापस लेना चाहिए क्योंकि अन्नदाता के साथ जो व्यवहार किया जा रहा है वो ठीक नही है।फिलहाल, बढ़ती महंगाई पर अब बीजेपी सरकार पर सवाल उठ रहे है ऐसे में जबाव भी बीजेपी को ही देना है क्योंकि जब महंगाई की मार लोगो के बजट पर पड़ेगी तो कही न कही खामियाजा बीजेपी को ही भुगतना पड़ेगा।