इंदौर का दिल मजबूत होगा तो शहर स्वस्थ रहेगा, NCC और व्यापारिक संगठन का जनजागरूक अभियान शुरू

सांसद शंकर लालवानी ने बताया कि हर रोज सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच शहर के मध्य क्षेत्र से लेकर भीड़ भरे बाजारों में एन.सी.सी. कैडेट्स और व्यापारिक संगठनों से जुड़े व्यापारी दुकानों पर जाकर लोगो को मास्क पहनने के साथ ही सोशल डिस्टेसिंग के पालन करने का निवेदन करेंगे

इंदौर., आकाश धोलपुरे| कोरोना (Corona) की रडार पर आ चुके इंदौर (Indore) में पिछले 7 दिनों में लगातार 500 से ज्यादा पॉजिटिव सामने आ रहे है और 7 दिनों में 3975 लोग कोविड पॉजिटिव (Covid Positive) आये है। ये आंकड़े ये बताने के लिए काफी है कि दीपावली के पहले की गई खरीददारी भी संक्रमण के बढ़ने की वजह है। आंकड़ों से हैरान जिला प्रशासन ने इंदौर में सांसद शंकर लालवानी (Shankar Lalwani) की अगुआई में आज से एक ऐसे अभियान की शुरुआत की है जिसके बाद बाजारों में उमड़ने वाली भीड़ और व्यापारियों को अवेयर किया जा सका।

एक आयोजन के बाद एनसीसी की 4 बटालियन और 20 व्यापारिक संगठन के प्रमुखों को सांसद शंकर लालवानी ने शहर के ह्रदय स्थल राजबाड़ा पर हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। सांसद शंकर लालवानी ने बताया कि हर रोज सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच शहर के मध्य क्षेत्र से लेकर भीड़ भरे बाजारों में एन.सी.सी. कैडेट्स और व्यापारिक संगठनों से जुड़े व्यापारी दुकानों पर जाकर लोगो को मास्क पहनने के साथ ही सोशल डिस्टेसिंग के पालन करने का निवेदन करेंगे। सांसद ने कहा कि आर्मी से जुड़े रिटायर्ड अधिकारी, कैडेट्स और व्यापारी आने वाले 1 माह से भी ज्यादा वक्त तक जनजागरूकता अभियान जारी रखेंगे। वही उन्होंने बताया कि रेल्वे स्टेशन और एयरपोर्ट पर भी ज्यादा सावधानी बरतने के लिये वो चर्चा करेंगे।

इधर, व्यापारिक संगठन से जुड़े सह संयोजक नरेश पुंगानी ने बताया कि इंदौर जागरूक शहरो की गिनती में आता है और जहां जहां महामारी बढ़ रही है ऐसे में व्यापारियों का दायित्व बनता है कि हर व्यापारिक स्थल पर सावधानी बरती जाए।

वही एन.सी.सी. की ओर से कर्नल प्रमोद पाठक ने कहा कि जब शहर का दिल मजबूत होगा तो समूचा शहर स्वस्थ बनेगा। उन्होंने कहा कि वर्दी का डर नही बल्कि वर्दी की इज्जत होती है और जब कैडेट्स बाजार में जायेंगे तो लोग मास्क लगाने सहित अन्य दिशा निर्देशों को मानेंगे।

फिलहाल, प्रदेश में इंदौर कोरोना का हॉट स्पॉट है लिहाजा अब लोगो को जागरूक करने की आवश्यकता आन पड़ी है लिहाजा, प्रशासन की ये पहल कितनी कारगर साबित होती है इसके परिणाम दिसम्बर माह में सामने आएंगे।